Friday, 6 October 2017

क्या कहिये किस तरह से जवानी गुज़र गई

क्या कहिये किस तरह से जवानी गुज़र गई
बदनाम करने आई थी बदनाम कर गई ।

क्या क्या रही सहर को शब-ए-वस्ल की तलाश
कहता रहा अभी तो यहीं थी किधर गई ।

रहती है कब बहार-ए-जवानी तमाम उम्र
मानिन्दे-बू-ए-गुल इधर आयी उधर गई ।

नैरंग-ए-रोज़गार से बदला न रंग-ए-इश्क़
अपनी हमेशा एक तरह पर गुज़र गई ।

kya kahiye kis tarah se javaanee guzar gaee
badanaam karane aaee thee badanaam kar gaee .

kya kya rahee sahar ko shab-e-vasl kee talaash
kahata raha abhee to yaheen thee kidhar gaee .

rahatee hai kab bahaar-e-javaanee tamaam umr
maaninde-boo-e-gul idhar aayee udhar gaee .

nairang-e-rozagaar se badala na rang-e-ishq
apanee hamesha ek tarah par guzar gaee .

No comments:

Post a Comment