Friday, 6 October 2017

क्या कहिये किस तरह से जवानी गुज़र गई

क्या कहिये किस तरह से जवानी गुज़र गई
बदनाम करने आई थी बदनाम कर गई ।

क्या क्या रही सहर को शब-ए-वस्ल की तलाश
कहता रहा अभी तो यहीं थी किधर गई ।

रहती है कब बहार-ए-जवानी तमाम उम्र
मानिन्दे-बू-ए-गुल इधर आयी उधर गई ।

नैरंग-ए-रोज़गार से बदला न रंग-ए-इश्क़
अपनी हमेशा एक तरह पर गुज़र गई ।

kya kahiye kis tarah se javaanee guzar gaee
badanaam karane aaee thee badanaam kar gaee .

kya kya rahee sahar ko shab-e-vasl kee talaash
kahata raha abhee to yaheen thee kidhar gaee .

rahatee hai kab bahaar-e-javaanee tamaam umr
maaninde-boo-e-gul idhar aayee udhar gaee .

nairang-e-rozagaar se badala na rang-e-ishq
apanee hamesha ek tarah par guzar gaee .

Monday, 2 October 2017

आ सजन गल लग्ग असाडे, केहा झेड़ा लाययो ई ?


आ सजन गल लग्ग असाडे, केहा झेड़ा लाययो ई ?
सुत्त्यां बैठ्यां कुझ्झ ना डिट्ठा, जागदियां सहु पाययो ई ।
'कुम-ब-इज़नी' शमस बोले, उलटा कर लटकाययो ई ।
इश्कन इश्कन जग्ग विच होईआं, दे दिलास बिठाययो ई ।
मैं तैं काई नहीं जुदाई, फिर क्यों आप छुपाययो ई ।
मझ्झियां आईआं माही ना आया, फूक ब्रिहों रुलाययो ई ।
एस इश्क दे वेखे कारे, यूसफ़ खूह पवाययो ई ।
वांग ज़ुलैखां विच मिसर दे, घुंगट खोल्ह रुलाययो ई ।
रब्ब-इ-अरानी मूसा बोले, तद कोह-तूर जलाययो ई ।
लण-तरानी झिड़कां वाला, आपे हुकम सुणाययो ई ।
इश्क दिवाने कीता फ़ानी, दिल यतीम बनाययो ई ।
बुल्हा शौह घर वस्या आ के, शाह इनायत पाययो ई ।
आ सजन गल लग्ग असाडे, केहा झेड़ा लाययो ई ?

aa sajan gal lagg asaade, keha jheda laayayo ee ?
suttyaan baithyaan kujhjh na dittha, jaagadiyaan sahu paayayo ee .
kum-ba-izanee shamas bole, ulata kar latakaayayo ee .
ishkan ishkan jagg vich hoeeaan, de dilaas bithaayayo ee .
main tain kaee nahin judaee, phir kyon aap chhupaayayo ee .
majhjhiyaan aaeeaan maahee na aaya, phook brihon rulaayayo ee .
es ishk de vekhe kaare, yoosaf khooh pavaayayo ee .
vaang zulaikhaan vich misar de, ghungat kholh rulaayayo ee .
rabb-i-araanee moosa bole, tad koh-toor jalaayayo ee .
lan-taraanee jhidakaan vaala, aape hukam sunaayayo ee .
ishk divaane keeta faanee, dil yateem banaayayo ee .
bulha shauh ghar vasya aa ke, shaah inaayat paayayo ee .
aa sajan gal lagg asaade, keha jheda laayayo ee ?

Wednesday, 20 September 2017

उदास रात है कोई तो ख़्वाब दे जाओ

उदास रात है कोई तो ख़्वाब दे जाओ 
मेरे गिलास में थोड़ी शराब दे जाओ 

बहुत से और भी हैं ख़ुदा की बस्ती में
फ़क़ीर कब से खड़ा है जवाब दे जाओ 

मैं ज़र्द पत्तों पे शबनम सजा के लाया हूँ 
किसी ने मुझसे कहा था हिसाब दे जाओ 

मेरी नज़र में रहे डूबने का मंज़र भी 
गुरूब होता हुआ आफ़ताब दे जाओ

फिर इसके बाद नज़रे नज़र को तरसेंगे 
वो जा रहा है खिजां के गुलाब दे जाओ 

हज़ार सफ़ों का दीवान कौन पढ़ता है
'बशीर बद्र' कोई इन्तखाब दे जाओ

udaas raat hai koee to khvaab de jao 
mere gilaas mein thodee sharaab de jao 

bahut se aur bhee hain khuda kee bastee mein
faqeer kab se khada hai javaab de jao 

main zard patton pe shabanam saja ke laaya hoon 
kisee ne mujhase kaha tha hisaab de jao 

meree nazar mein rahe doobane ka manzar bhee 
guroob hota hua aafataab de jao

phir isake baad nazare nazar ko tarasenge 
vo ja raha hai khijaan ke gulaab de jao 

hazaar safon ka deevaan kaun padhata hai
basheer badr koee intakhaab de jao

Friday, 15 September 2017

दर्द बन के दिल में आना , कोई तुम से सीख जाए

दर्द बन के दिल में आना , कोई तुम से सीख जाए
जान-ए-आशिक़ हो के जाना , कोई तुम से सीख जाए

हमसुख़न पर रूठ जाना , कोई तुम से सीख जाए
रूठ कर फिर मुस्कुराना, कोई तुम से सीख जाए

वस्ल की शब चश्म-ए-ख़्वाब-आलूदा के मलते उठे
सोते फ़ित्ने को जगाना,कोई तुम से सीख जाए

कोई सीखे ख़ाकसारी की रविश तो हम सिखाएँ
ख़ाक में दिल को मिलाना,कोई तुम से सीख जाए

आते-जाते यूँ तो देखे हैं हज़ारों ख़ुश-ख़राम
दिल में आकर दिल से जाना,कोई तुम से सीख जाए

इक निगाह-ए-लुत्फ़ पर लाखों दुआएँ मिल गयीं
उम्र को अपनी बढ़ाना,कोई तुम से सीख जाए

जान से मारा उसे, तन्हा जहाँ पाया जिसे
बेकसी में काम आना ,कोई तुम से सीख जाए

क्या सिखाएगा ज़माने को फ़लत तर्ज़-ए-ज़फ़ा
अब तुम्हारा है ज़माना,कोई तुम से सीख जाए

महव-ए-बेख़ुद हो, नहीं कुछ दुनियादारी की ख़बर 
दाग़ ऐसा दिल लगाना,कोई तुम से सीख जाए

dard ban ke dil mein aana , koee tum se seekh jae
jaan-e-aashiq ho ke jaana , koee tum se seekh jae

hamasukhan par rooth jaana , koee tum se seekh jae
rooth kar phir muskuraana, koee tum se seekh jae

vasl kee shab chashm-e-khvaab-aalooda ke malate uthe
sote fitne ko jagaana,koee tum se seekh jae

koee seekhe khaakasaaree kee ravish to ham sikhaen
khaak mein dil ko milaana,koee tum se seekh jae

aate-jaate yoon to dekhe hain hazaaron khush-kharaam
dil mein aakar dil se jaana,koee tum se seekh jae

ik nigaah-e-lutf par laakhon duaen mil gayeen
umr ko apanee badhaana,koee tum se seekh jae

jaan se maara use, tanha jahaan paaya jise
bekasee mein kaam aana ,koee tum se seekh jae

kya sikhaega zamaane ko falat tarz-e-zafa
ab tumhaara hai zamaana,koee tum se seekh jae

mahav-e-bekhud ho, nahin kuchh duniyaadaaree kee khabar 
daag aisa dil lagaana,koee tum se seekh jae

Thursday, 14 September 2017

अच्छी सूरत पे ग़ज़ब टूट के आना दिल का

अच्छी सूरत पे ग़ज़ब टूट के आना दिल का
याद आता है हमें हाय! ज़माना दिल का 

तुम भी मुँह चूम लो बेसाख़ता प्यार आ जाए 
मैं सुनाऊँ जो कभी दिल से फ़साना दिल का

पूरी मेंहदी भी लगानी नहीं आती अब तक
क्योंकर आया तुझे ग़ैरों से लगाना दिल का

इन हसीनों का लड़कपन ही रहे या अल्लाह 
होश आता है तो आता है सताना दिल का

मेरी आग़ोश से क्या ही वो तड़प कर निकले 
उनका जाना था इलाही के ये जाना दिल का

दे ख़ुदा और जगह सीना-ओ-पहलू के सिवा
के बुरे वक़्त में होजाए ठिकाना दिल का

उंगलियाँ तार-ए-गरीबाँ में उलझ जाती हैं 
सख़्त दुश्वार है हाथों से दबाना दिल का

बेदिली का जो कहा हाल तो फ़रमाते हैं
कर लिया तूने कहीं और ठिकाना दिल का

छोड़ कर उसको तेरी बज़्म से क्योंकर जाऊँ
एक जनाज़े का उठाना है उठाना दिल का

निगहा-ए-यार ने की ख़ाना ख़राबी ऎसी 
न ठिकाना है जिगर का न ठिकाना दिल का

बाद मुद्दत के ये ऎ दाग़ समझ में आया
वही दाना है कहा जिसने न माना दिल का

achchhee soorat pe gazab toot ke aana dil ka
yaad aata hai hamen haay! zamaana dil ka 

tum bhee munh choom lo besaakhata pyaar aa jae 
main sunaoon jo kabhee dil se fasaana dil ka

pooree menhadee bhee lagaanee nahin aatee ab tak
kyonkar aaya tujhe gairon se lagaana dil ka

in haseenon ka ladakapan hee rahe ya allaah 
hosh aata hai to aata hai sataana dil ka

meree aagosh se kya hee vo tadap kar nikale 
unaka jaana tha ilaahee ke ye jaana dil ka

de khuda aur jagah seena-o-pahaloo ke siva
ke bure vaqt mein hojae thikaana dil ka

ungaliyaan taar-e-gareebaan mein ulajh jaatee hain 
sakht dushvaar hai haathon se dabaana dil ka

bedilee ka jo kaha haal to faramaate hain
kar liya toone kaheen aur thikaana dil ka

chhod kar usako teree bazm se kyonkar jaoon
ek janaaze ka uthaana hai uthaana dil ka

nigaha-e-yaar ne kee khaana kharaabee aisee 
na thikaana hai jigar ka na thikaana dil ka

baad muddat ke ye ai daag samajh mein aaya
vahee daana hai kaha jisane na maana dil ka

Sunday, 10 September 2017

ग़ज़ल को माँ की तरह बा-वक़ार करता हूँ

ग़ज़ल को माँ की तरह बा-वक़ार करता हूँ 
मैं मामता के कटोरों में दूध भरता हूँ 

ये देख हिज्र तेरा कितना ख़ूबसूरत है
अजीब मर्द हूँ सोलह श्रृंगार करता हूँ 

बदन समेट के ले जाए जैसे शाम की धूप 
तुम्हारे शहर से मैं इस तरह गुज़रता हूँ 

तमाम दिन का सफ़र करके रोज़ शाम के बाद 
पहाड़ियों से घिरी क़ब्र में उतरता हूँ

मुझे सकून घने जंगलों में मिलता है
मैं रास्तों से नहीं मंज़िलों से डरता हूँ


gazal ko maa kee tarah ba-vaqaar karata hoon 
main maamata ke katoron mein doodh bharata hoon 

ye dekh hijr tera kitana khoobasoorat hai
ajeeb mard hoon solah shrrngaar karata hoon 

badan samet ke le jae jaise shaam kee dhoop 
tumhaare shahar se main is tarah guzarata hoon 

tamaam din ka safar karake roz shaam ke baad 
pahaadiyon se ghiree qabr mein utarata hoon

mujhe sakoon ghane jangalon mein milata hai
main raaston se nahin manzilon se darata hoon

ऐसा जगिआ ज्ञान पलीता


ऐसा जगिआ ज्ञान पलीता ।

ना हम हिन्दू ना तुर्क ज़रूरी, नाम इश्क दी है मनज़ूरी,
आशक ने वर जीता, ऐसा जग्या ज्ञान पलीता ।

वेखो ठग्गां शोर मचाइआ, जंमना मरना चा बणाइआ ।
मूर्ख भुल्ले रौला पाइआ, जिस नूं आशक ज़ाहर कीता,
ऐसा जग्या ज्ञान पलीता ।

बुल्ल्हा आशक दी बात न्यारी, प्रेम वालिआं बड़ी करारी,
मूर्ख दी मत्त ऐवें मारी, वाक सुख़न चुप्प कीता,
ऐसा जग्या ज्ञान पलीता ।

aisa jagia gyaan paleeta .

na ham hindoo na turk zarooree, naam ishk dee hai manazooree,
aashak ne var jeeta, aisa jagya gyaan paleeta .

vekho thaggaan shor machaia, jammana marana cha banaia .
moorkh bhulle raula paia, jis noon aashak zaahar keeta,
aisa jagya gyaan paleeta .

bullha aashak dee baat nyaaree, prem vaaliaan badee karaaree,
moorkh dee matt aiven maaree, vaak sukhan chupp keeta,
aisa jagya gyaan paleeta .

आयो सईयो रल दियो नी वधाई


आयो सईयो रल दियो नी वधाई ।
मैं वर पाइआ रांझा माही ।

अज्ज तां रोज़ मुबारक चढ़आ, रांझा साडे वेहड़े वड़्या,
हत्थ खूंडी मोढे कम्बल धरिआ, चाकां वाली शकल बणाई,
आयो सईयो रल दियो नी वधाई ।

मुक्कट गऊआं दे विच रुल्लदा, जंगल जूहां दे विच रुल्लदा ।
है कोई अल्लाह दे वल्ल भुल्लदा, असल हकीकत ख़बर ना काई,
आयो सईयो रल दियो नी वधाई ।

बुल्ल्हे शाह इक सौदा कीता, पीता ज़हर प्याला पीता,
ना कुझ लाहा टोटा लीता, दर्द दुक्खां दी गठड़ी चाई,
आयो सईयो रल दियो नी वधाई ।
मैं वर पाइआ रांझा माही ।

aayo saeeyo ral diyo nee vadhaee .
main var paia raanjha maahee .

ajj taan roz mubaarak chadha, raanjha saade vehade vadya,
hatth khoondee modhe kambal dharia, chaakaan vaalee shakal banaee,
aayo saeeyo ral diyo nee vadhaee .

mukkat gaooaan de vich rullada, jangal joohaan de vich rullada .
hai koee allaah de vall bhullada, asal hakeekat khabar na kaee,
aayo saeeyo ral diyo nee vadhaee .

bullhe shaah ik sauda keeta, peeta zahar pyaala peeta,
na kujh laaha tota leeta, dard dukkhaan dee gathadee chaee,
aayo saeeyo ral diyo nee vadhaee .
main var paia raanjha maahee .

क़स्र-ए-रंगीं से गुज़र बाग़-ओ-गुलिस्ताँ से निकल


क़स्र-ए-रंगीं से गुज़र बाग़-ओ-गुलिस्ताँ से निकल
है वफ़ा-पेशा तू मत कूचा-ए-जानाँ से निकल

निकहत-ए-ज़ुल्फ़ ये किस की है कि जिस के आगे
हुई ख़जलत-ज़दा बू सुम्बुल-ओ-रैहाँ से निकल

गो बहार अब है वले रोज़-ए-ख़िज़ाँ ऐ बुलबुल
यक-क़लम नर्गिस ओ गुल जावेंगे बुसताँ से निकल

इम्तिहाँ करने को यूँ दिल से कहा हम ने रात
ऐ दिल-ए-ग़म-ज़दा इस काकुल-ए-पेचाँ से निकल

खा के सौ पेच कहा मैं तो निकलने का नहीं
मगर ऐ दुश्मन-ए-जाँ चल तू मिरे हाँ से निकल

हो परेशानी से जिस की मुझे सौ जमइय्यत
किस तरह जाऊँ मैं उस ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ से निकल

लाख ज़िंदान-ए-पुर-आफ़ात में होता है वो क़ैद
जो कोई जाता है इस तौर के ज़िंदाँ से निकल

मुझ से मुमकिन नहीं महबूब की क़त्अ-ए-उल्फ़त
गरचे मैं जाऊँगा इस आलम-ए-इम्काँ से निकल

चाह में मुझ को ये मुर्शिद का है इरशाद ‘नज़ीर’
आबरू चाहे तो मत चाह-ए-ज़नख़दाँ से निकल

qasr-e-rangeen se guzar baag-o-gulistaan se nikal
hai vafa-pesha too mat koocha-e-jaanaan se nikal 

nikahat-e-zulf ye kis kee hai ki jis ke aage
huee khajalat-zada boo sumbul-o-raihaan se nikal

go bahaar ab hai vale roz-e-khizaan ai bulabul
yak-qalam nargis o gul jaavenge busataan se nikal

imtihaan karane ko yoon dil se kaha ham ne raat
ai dil-e-gam-zada is kaakul-e-pechaan se nikal

kha ke sau pech kaha main to nikalane ka nahin
magar ai dushman-e-jaan chal too mire haan se nikal

ho pareshaanee se jis kee mujhe sau jamiyyat
kis tarah jaoon main us zulf-e-pareshaan se nikal

laakh zindaan-e-pur-aafaat mein hota hai vo qaid
jo koee jaata hai is taur ke zindaan se nikal

mujh se mumakin nahin mahaboob kee qat-e-ulfat
garache main jaoonga is aalam-e-imkaan se nikal

chaah mein mujh ko ye murshid ka hai irashaad ‘nazeer’
aabaroo chaahe to mat chaah-e-zanakhadaan se nikal

Saturday, 9 September 2017

हमारा दिल सवेरे का सुनहरा जाम हो जाए

हमारा दिल सवेरे का सुनहरा जाम हो जाए 
चराग़ों की तरह आँखें जलें जब शाम हो जाए 

मैं ख़ुद भी एहतियातन उस गली से कम गुज़रता हूँ 
कोई मासूम क्यों मेरे लिए बदनाम हो जाए 

अजब हालात थे यूँ दिल का सौदा हो गया आख़िर 
मोहब्बत की हवेली जिस तरह नीलाम हो जाए 

समन्दर के सफ़र में इस तरह आवाज़ दो हमको 
हवाएँ तेज़ हों और कश्तियों में शाम हो जाए

मुझे मालूम है उसका ठिकाना फिर कहाँ होगा 
परिंदा आसमाँ छूने में जब नाकाम हो जाए 

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो 
न जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाए

hamaara dil savere ka sunahara jaam ho jae 
charaagon kee tarah aankhen jalen jab shaam ho jae 

main khud bhee ehatiyaatan us galee se kam guzarata hoon 
koee maasoom kyon mere lie badanaam ho jae 

ajab haalaat the yoon dil ka sauda ho gaya aakhir 
mohabbat kee havelee jis tarah neelaam ho jae 

samandar ke safar mein is tarah aavaaz do hamako 
havaen tez hon aur kashtiyon mein shaam ho jae

mujhe maaloom hai usaka thikaana phir kahaan hoga 
parinda aasamaan chhoone mein jab naakaam ho jae 

ujaale apanee yaadon ke hamaare saath rahane do 
na jaane kis galee mein zindagee kee shaam ho jae

Friday, 8 September 2017

उज़्र आने में भी है और बुलाते भी नहीं

उज़्र आने में भी है और बुलाते भी नहीं
बाइस-ए-तर्क-ए मुलाक़ात बताते भी नहीं

मुंतज़िर हैं दमे रुख़सत के ये मर जाए तो जाएँ
फिर ये एहसान के हम छोड़ के जाते भी नहीं

सर उठाओ तो सही, आँख मिलाओ तो सही
नश्शाए मैं भी नहीं, नींद के माते भी नहीं

क्या कहा फिर तो कहो; हम नहीं सुनते तेरी
नहीं सुनते तो हम ऐसों को सुनाते भी नहीं

ख़ूब परदा है कि चिलमन से लगे बैठे हैं
साफ़ छुपते भी नहीं सामने आते भी नहीं

मुझसे लाग़िर तेरी आँखों में खटकते तो रहे
तुझसे नाज़ुक मेरी आँखों में समाते भी नहीं

देखते ही मुझे महफ़िल में ये इरशाद हुआ
कौन बैठा है इसे लोग उठाते भी नहीं

हो चुका तर्के तअल्लुक़ तो जफ़ाएँ क्यूँ हों
जिनको मतलब नहीं रहता वो सताते भी नहीं

ज़ीस्त से तंग हो ऐ दाग़ तो जीते क्यूँ हो
जान प्यारी भी नहीं जान से जाते भी नहीं


uzr aane mein bhee hai aur bulaate bhee nahin 
bais-e-tark-e mulaaqaat bataate bhee nahin

muntazir hain dame rukhasat ke ye mar jae to jaen 
phir ye ehasaan ke ham chhod ke jaate bhee nahin

sar uthao to sahee, aankh milao to sahee 
nashshae main bhee nahin, neend ke maate bhee nahin

kya kaha phir to kaho; ham nahin sunate teree 
nahin sunate to ham aison ko sunaate bhee nahin

khoob parada hai ki chilaman se lage baithe hain 
saaf chhupate bhee nahin saamane aate bhee nahin

mujhase laagir teree aankhon mein khatakate to rahe 
tujhase naazuk meree aankhon mein samaate bhee nahin 

dekhate hee mujhe mahafil mein ye irashaad hua 
kaun baitha hai ise log uthaate bhee nahin

ho chuka tarke taalluq to jafaen kyoon hon
jinako matalab nahin rahata vo sataate bhee nahin

zeest se tang ho ai daag to jeete kyoon ho
jaan pyaaree bhee nahin jaan se jaate bhee nahin

प्रेम नगर दे उलटे चाले,


अब क्यों साजन चिर लायो रे ?

ऐसी आई मन में काई,
दुख सुख सभ वंजाययो रे,
हार शिंगार को आग लगाउं,
घट उप्पर ढांड मचाययो रे ;
अब क्यों साजन चिर लाययो रे ?

सुन के ज्ञान की ऐसी बातां,
नाम निशान सभी अणघातां,
कोइल वांगूं कूकां रातां,
तैं अजे वी तरस ना आइयो रे ;
अब क्यों साजन चिर लाययो रे ?

गल मिरगानी सीस खपरिया,
भीख मंगन नूं रो रो फिरिआ,
जोगन नाम भ्या लिट धरिआ,
अंग बिभूत रमाययो रे ;
अब क्यों साजन चिर लाययो रे ?

इश्क मुल्लां ने बांग दिवाई,
उट्ठ बहुड़न गल्ल वाजब आई,
कर कर सिजदे घर वल धाई,
मत्थे महराब टिकाययो रे ;
अब क्यों साजन चिर लाययो रे ?

प्रेम नगर दे उलटे चाले,
ख़ूनी नैन होए खुशहाले,
आपे आप फसे विच जाले,
फस फस आप कुहाययो रे ;
अब क्यों साजन चिर लाययो रे ?

दुक्ख बिरहों ना होन पुराणे,
जिस तन पीड़ां सो तन जाणे,
अन्दर झिड़कां बाहर ताअने,
नेहुं लग्यां दुक्ख पाययो रे ;
अब क्यों साजन चिर लाययो रे ?

मैना मालन रोंदी पकड़ी,
बिरहों पकड़ी करके तकड़ी,
इक मरना दूजी जग्ग दी फक्कड़ी,
हुन कौन बन्ना बण आइयो रे ;
अब क्यों साजन चिर लाययो रे ?

बुल्ल्हा शौह संग प्रीत लगाई,
सोहनी बण तण सभ कोई आई,
वेख के शाह इनायत साईं,
जिय मेरा भर आइयो रे ;
अब क्यों साजन चिर लाययो रे ?

ab kyon saajan chir laayo re ?

aisee aaee man mein kaee,
dukh sukh sabh vanjaayayo re,
haar shingaar ko aag lagaun,
ghat uppar dhaand machaayayo re ;
ab kyon saajan chir laayayo re ?

sun ke gyaan kee aisee baataan,
naam nishaan sabhee anaghaataan,
koil vaangoon kookaan raataan,
tain aje vee taras na aaiyo re ;
ab kyon saajan chir laayayo re ?

gal miragaanee sees khapariya,
bheekh mangan noon ro ro phiria,
jogan naam bhya lit dharia,
ang bibhoot ramaayayo re ;
ab kyon saajan chir laayayo re ?

ishk mullaan ne baang divaee,
utth bahudan gall vaajab aaee,
kar kar sijade ghar val dhaee,
matthe maharaab tikaayayo re ;
ab kyon saajan chir laayayo re ?

prem nagar de ulate chaale,
khoonee nain hoe khushahaale,
aape aap phase vich jaale,
phas phas aap kuhaayayo re ;
ab kyon saajan chir laayayo re ?

dukkh birahon na hon puraane,
jis tan peedaan so tan jaane,
andar jhidakaan baahar taane,
nehun lagyaan dukkh paayayo re ;
ab kyon saajan chir laayayo re ?

maina maalan rondee pakadee,
birahon pakadee karake takadee,
ik marana doojee jagg dee phakkadee,
hun kaun banna ban aaiyo re ;
ab kyon saajan chir laayayo re ?

bullha shauh sang preet lagaee,
sohanee ban tan sabh koee aaee,
vekh ke shaah inaayat saeen,
jiy mera bhar aaiyo re ;
ab kyon saajan chir laayayo re ?

कर लेते अलग हम तो दिल इस शोख़ से कब का


कर लेते अलग हम तो दिल इस शोख़ से कब का
गर और भी होता कोई इस तौर की छब का

बोसा की एवज़ होते हैं दुश्नाम से मसरूर
इतना तो करम हम पे भी है यार के लब का

उस कान के झुमके की लटक देख ली शायद
हर ख़ोशा इसी ताक में रहता है एनब का

देखा जो बड़ी देर तलक उस ने मुँह अपना
ले दस्त-ए-हिना-बस्ता में आईना हलब का

जब हम ने कहा रखिए अब आईना को ये तो
हिस्सा है किसी और भी दीदार-तलब का

ये सुन के उधर उस ने किया ग़ुस्से में मुँह सुर्ख़
भबका इधर आईना भी हम-सर हो ग़ज़ब का

तुम रब्त के ढब जिस से लड़ाते हो ‘नज़ीर’ आह
वो दिलबर-ए-अय्यार है कुछ और ही ढब का

kar lete alag ham to dil is shokh se kab ka
gar aur bhee hota koee is taur kee chhab ka

bosa kee evaz hote hain dushnaam se masaroor
itana to karam ham pe bhee hai yaar ke lab ka

us kaan ke jhumake kee latak dekh lee shaayad
har khosha isee taak mein rahata hai enab ka

dekha jo badee der talak us ne munh apana
le dast-e-hina-basta mein aaeena halab ka

jab ham ne kaha rakhie ab aaeena ko ye to
hissa hai kisee aur bhee deedaar-talab ka

ye sun ke udhar us ne kiya gusse mein munh surkh
bhabaka idhar aaeena bhee ham-sar ho gazab ka

tum rabt ke dhab jis se ladaate ho ‘nazeer’ aah
vo dilabar-e-ayyaar hai kuchh aur hee dhab ka

कई दिन से हम भी हैं देखे उसे हम पे नाज़ ओ इताब है


कई दिन से हम भी हैं देखे उसे हम पे नाज़ ओ इताब है
कभी मुँह बना कभी रुख़ फिरा कभी चीं-जबीं पे शिताब है

है फँसा जो ज़ुल्फ़ में उस के दिल तो बता दें क्या तुझे हम-नशीं
कभी बल से बल कभी ख़म से ख़म कभी ताब-चीन से ताब है

वो ख़फ़ा जो हम से है ग़ुंचा-लब तो हमारी शक्ल ये है कि अब
कभी रंज-ए-दिल कभी आह-ए-जाँ कभी चश्म-ए-ग़म से पुर-आब है

नहीं आता वो जो इधर ज़रा हमीं इंतिज़ार में उस के याँ
कभी झाँकना कभी ताकना कभी बे-कली पए-ख़्वाब है

वो नज़ीर हम से जो आ मिला तो फिर उस घड़ी से ये ऐश हैं
कभी रुख़ पे रुख़ कभी लब पे लब कभी साग़र-ए-मय-ए-नाब है

kaee din se ham bhee hain dekhe use ham pe naaz o itaab hai
kabhee munh bana kabhee rukh phira kabhee cheen-jabeen pe shitaab hai

hai phansa jo zulf mein us ke dil to bata den kya tujhe ham-nasheen
kabhee bal se bal kabhee kham se kham kabhee taab-cheen se taab hai

vo khafa jo ham se hai guncha-lab to hamaaree shakl ye hai ki ab
kabhee ranj-e-dil kabhee aah-e-jaan kabhee chashm-e-gam se pur-aab hai

nahin aata vo jo idhar zara hameen intizaar mein us ke yaan
kabhee jhaankana kabhee taakana kabhee be-kalee pae-khvaab hai

vo nazeer ham se jo aa mila to phir us ghadee se ye aish hain
kabhee rukh pe rukh kabhee lab pe lab kabhee saagar-e-may-e-naab hai

महफ़िल महफ़िल मुस्काना तो पड़ता है

महफ़िल महफ़िल मुस्काना तो पड़ता है
खुद ही खुद को समझाना तो पड़ता है

उनकी आँखों से होकर दिल तक जाना
रस्ते में ये मैखाना तो पडता हैं

तुमको पाने की चाहत में ख़तम हुए
इश्क में इतना जुरमाना तो पड़ता हैं

mahafil mahafil muskaana to padata hai
khud hee khud ko samajhaana to padata hai

unakee aankhon se hokar dil tak jaana
raste mein ye maikhaana to padata hain

tumako paane kee chaahat mein khatam hue
ishk mein itana juramaana to padata hain

Thursday, 7 September 2017

न रवा कहिये न सज़ा कहिये

न रवा कहिये न सज़ा कहिये
कहिये कहिये मुझे बुरा कहिये
दिल में रखने की बात है ग़म-ए-इश्क़
इस को हर्गिज़ न बर्मला कहिये
वो मुझे क़त्ल कर के कहते हैं
मानता ही न था ये क्या कहिये
आ गई आप को मसिहाई
मरने वालो को मर्हबा कहिये
होश उड़ने लगे रक़ीबों के
"दाग" को और बेवफ़ा कहिये

na rava kahiye na saza kahiye
kahiye kahiye mujhe bura kahiye

dil mein rakhane kee baat hai gam-e-ishq
is ko hargiz na barmala kahiye

vo mujhe qatl kar ke kahate hain
maanata hee na tha ye kya kahiye

aa gaee aap ko masihaee
marane vaalo ko marhaba kahiye

hosh udane lage raqeebon ke
"daag" ko aur bevafa kahiye