Friday, 30 June 2017

अत्तन मैं क्युं आई सां,

अत्तन मैं क्युं आई सां,
मेरी तन्द न पईआ काय ।

आउंद्यां उठि खेडनि लगी,
चरखा छड्या चाय ।।

कत्तन कारन गोढ़े आंदे,
गया बलेदा खाय ।1।

होरनां दियां अड़ी अट्टियां,
निमानी दी अड़ी कपाह ।2।

होरनां कत्तियां पंज सत पूणियां,
मैं की आखांगी जाय ।3।

कहै हुसैन सुचजियां नारी,
लैसन सहु गल लाय ।4।

attan main kyun aaee saan,
meree tand na paeea kaay .

aaundyaan uthi khedani lagee,
charakha chhadya chaay .rahau.

kattan kaaran godhe aande,
gaya baleda khaay .1.

horanaan diyaan adee attiyaan,
nimaanee dee adee kapaah .2.

horanaan kattiyaan panj sat pooniyaan,
main kee aakhaangee jaay .3.

kahai husain suchajiyaan naaree,
laisan sahu gal laay .4.

आप नूं पछान बन्दे


आप नूं पछान बन्दे ।
जे तुध आपना आप पछाता,
साहब नूं मिलन आसान बन्दे ।।

उचड़ी माड़ी सुइने दी सेजा,
हर बिन जान मसान बन्दे ।1।

इत्थे रहन किसे दा नाहीं,
काहे कूं तानह तान बन्दे ।2।

कहै हुसैन फ़कीर रब्बाणा,
फ़ानी सभ जहान बन्दे ।3।

aap noon pachhaan bande .
je tudh aapana aap pachhaata,
saahab noon milan aasaan bande ..

uchadee maadee suine dee seja,
har bin jaan masaan bande .1.

itthe rahan kise da naaheen,
kaahe koon taanah taan bande .2.

kahai husain fakeer rabbaana,
faanee sabh jahaan bande .3.

बहसें फिजूल थीं

बहसें फिजूल थीं यह खुला हाल देर में 
अफ्सोस उम्र कट गई लफ़्ज़ों के फेर में 

है मुल्क इधर तो कहत जहद, उस तरफ यह वाज़
कुश्ते वह खा के पेट भरे पांच सेर मे

हैं गश में शेख देख के हुस्ने-मिस-फिरंग
बच भी गये तो होश उन्हें आएगा देर में 

छूटा अगर मैं गर्दिशे तस्बीह से तो क्या 
अब पड़ गया हूँ आपकी बातों के फेर में

bahasen phijool theen yah khula haal der mein 
aphsos umr kat gaee lafzon ke pher mein 

hai mulk idhar to kahat jahad, us taraph yah vaaz
kushte vah kha ke pet bhare paanch ser me

hain gash mein shekh dekh ke husne-mis-phirang
bach bhee gaye to hosh unhen aaega der mein 

chhoota agar main gardishe tasbeeh se to kya 
ab pad gaya hoon aapakee baaton ke pher mein

देखना हर सुब्ह तुझ रुख़सार का

देखना हर सुब्ह तुझ रुख़सार का
है मुताला मत्ला—ए—अनवार का

बुलबुल—ओ—परवाना करना दिल के तईं
काम है तुझ चेह्रा—ए—गुलनार का

सुब्ह तेरा दरस पाया था सनम
शौक़—ए—दिल मुह्ताज है तकरार का

माह के सीने ऊपर अय शम्अ रू !
दाग़ है तुझ हुस्न की झलकार का

दिल को देता है हमारे पेच—ओ—ताब
पेच तेरे तुर्रा—ओ—तर्रार का

जो सुनिया तेरे दहन सूँ यक बचन
भेद पाया नुस्ख़ा—ए—इसरार का

चाहता है इस जहाँ में गर बहिश्त
जा तमाशा देख उस रुख़सार का

अय वली ! क्यों सुन सके नासेह की बात
जो दिवाना है परी रुख़सार का

dekhana har subh tujh rukhasaar ka

hai mutaala matla—e—anavaar ka


bulabul—o—paravaana karana dil ke taeen

kaam hai tujh chehra—e—gulanaar ka


subh tera daras paaya tha sanam

shauq—e—dil muhtaaj hai takaraar ka


maah ke seene oopar ay sham roo !

daag hai tujh husn kee jhalakaar ka


dil ko deta hai hamaare pech—o—taab

pech tere turra—o—tarraar ka


jo suniya tere dahan soon yak bachan

bhed paaya nuskha—e—isaraar ka


chaahata hai is jahaan mein gar bahisht

ja tamaasha dekh us rukhasaar ka

रूह बख़्शी है

रूह बख़्शी है काम तुझ लब का
दम—ए—ईसा है नाम तुझ लब का

हुस्न के ख़िज़्र ने किया लबरेज़
आब—ए—हैवाँ सूँ जाम तुझ लब का

मन्तक़—ओ—हिकमत—ओ—मआनी पर
मुश्तमल है कलाम तुझ लब का

रग़—ए—याक़ूत के क़लम से लिखें
ख़त परस्ताँ पयाम तुझ लब का

सब्ज़ा—ओ—बर्ग—ओ—लाला रखते हैं
शौक़ दिल में दवाम तुझ लब का

ग़र्क़—ए—शक्कर हुए हैं काम—ओ—ज़बान
जब लिया हूँ मैं नाम तुझ लब का

है वली की ज़बाँ को लज़्ज़त बख़्श
ज़िक्र हर सुब्ह—ओ—शाम तुझ लब का

rooh bakhshee hai kaam tujh lab ka

dam—e—eesa hai naam tujh lab ka


husn ke khizr ne kiya labarez

aab—e—haivaan soon jaam tujh lab ka


mantaq—o—hikamat—o—maaanee par

mushtamal hai kalaam tujh lab ka


rag—e—yaaqoot ke qalam se likhen

khat parastaan payaam tujh lab ka


sabza—o—barg—o—laala rakhate hain

shauq dil mein davaam tujh lab ka


garq—e—shakkar hue hain kaam—o—zabaan

jab liya hoon main naam tujh lab ka


hai valee kee zabaan ko lazzat bakhsh

zikr har subh—o—shaam tujh lab ka

फ़रिश्ते से बेहतर है इन्सान बनना

बढ़ाओ न आपस में मिल्लत ज़ियादा
मुबादा कि हो जाए नफ़रत ज़ियादा

तक़ल्लुफ़ अलामत है बेग़ानगी की
न डालो तक़ल्लुफ़ की आदत ज़ियादा

करो दोस्तो पहले आप अपनी इज़्ज़त
जो चाहो करें लोग इज़्ज़त ज़ियादा

निकालो न रख़ने नसब में किसी के
नहीं कोई इससे रज़ालत ज़ियादा

करो इल्म से इक़्तसाबे-शराफ़त
नसाबत से है ये शराफ़त ज़ियादा

फ़राग़त से दुनिया में दम भर न बैठो
अगर चाहते हो फ़राग़त ज़ियादा

जहाँ राम होता है मीठी ज़बाँ से
नहीं लगती कुछ इसमें मेहनत ज़ियादा

मुसीबत का इक इक से अहवाल कहना
मुसीबत से है ये मुसीबत ज़ियादा 

फिर औरों की तकते फिरोगे सख़ावत
बढ़ाओ न हद से सख़ावत ज़ियादा

कहीं दोस्त तुमसे न हो जाएँ बदज़न
जताओ न अपनी महब्बत ज़ियादा

जो चाको फ़क़ीरी में इज़्ज़त से रहना
न रक्खो अमीरों से मिल्लत ज़ियादा

है उल्फ़त भी वहशत भी दुनिया से लाज़िम
पै उल्फ़त ज़ियादा न वहशत ज़ियादा

फ़रिश्ते से बेहतर है इन्सान बनना
मगर इसमें पढ़ती है मेहनत ज़ियादा

badhao na aapas mein millat ziyaada
mubaada ki ho jae nafarat ziyaada

taqalluf alaamat hai begaanagee kee
na daalo taqalluf kee aadat ziyaada

karo dosto pahale aap apanee izzat
jo chaaho karen log izzat ziyaada

nikaalo na rakhane nasab mein kisee ke
nahin koee isase razaalat ziyaada

karo ilm se iqtasaabe-sharaafat
nasaabat se hai ye sharaafat ziyaada

faraagat se duniya mein dam bhar na baitho
agar chaahate ho faraagat ziyaada

jahaan raam hota hai meethee zabaan se
nahin lagatee kuchh isamen mehanat ziyaada

museebat ka ik ik se ahavaal kahana
museebat se hai ye museebat ziyaada 

phir auron kee takate phiroge sakhaavat
badhao na had se sakhaavat ziyaada

kaheen dost tumase na ho jaen badazan
jatao na apanee mahabbat ziyaada

jo chaako faqeeree mein izzat se rahana
na rakkho ameeron se millat ziyaada

hai ulfat bhee vahashat bhee duniya se laazim
pai ulfat ziyaada na vahashat ziyaada

farishte se behatar hai insaan banana
magar isamen padhatee hai mehanat ziyaada


याद किसी की चांदनी बन कर कोठे-कोठे छिटकी है

याद किसी की चांदनी बन कर कोठे-कोठे छिटकी है
याद किसी की धूप हुई है ज़ीना-ज़ीना उतरी है

रात की रानी सहने-चमन में गेसू खोले सोती है 
रात बॆ रात उधर मत जाना इक नागिन भी रहती है

तुमकॊ क्या ग़ज़लें कह कर अपनी आग बुझा लोगे
उसके जी से पूछो जो पत्थर की तरह चुप रहती है 

पत्थर लेकर गलियों-गलियों लड़के पूछा करते हैं 
हर बस्ती में आगे शोहरत मेरी पहुँचती है 

मुद्दत से इक लड़की के रुखसार की धूप नहीं आई 
इसीलिए मेरे कमरे में इतनी ठंडक रहती है

yaad kisee kee chaandanee ban kar kothe-kothe chhitakee hai
yaad kisee kee dhoop huee hai zeena-zeena utaree hai

raat kee raanee sahane-chaman mein gesoo khole sotee hai 
raat bai raat udhar mat jaana ik naagin bhee rahatee hai

tumako kya gazalen kah kar apanee aag bujha loge
usake jee se poochho jo patthar kee tarah chup rahatee hai 

patthar lekar galiyon-galiyon ladake poochha karate hain 
har bastee mein aage shoharat meree pahunchatee hai 

muddat se ik ladakee ke rukhasaar kee dhoop nahin aaee 
iseelie mere kamare mein itanee thandak rahatee hai

मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा

ओ कल्पव्रक्ष की सोनजुही!
ओ अमलताश की अमलकली!
धरती के आतप से जलते...
मन पर छाई निर्मल बदली...
मैं तुमको मधुसदगन्ध युक्त संसार नहीं दे पाऊँगा|
तुम मुझको करना माफ तुम्हें मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा||

तुम कल्पव्रक्ष का फूल और
मैं धरती का अदना गायक
तुम जीवन के उपभोग योग्य
मैं नहीं स्वयं अपने लायक
तुम नहीं अधूरी गजल शुभे
तुम शाम गान सी पावन हो
हिम शिखरों पर सहसा कौंधी
बिजुरी सी तुम मनभावन हो.
इसलिये व्यर्थ शब्दों वाला व्यापार नहीं दे पाऊँगा|
तुम मुझको करना माफ तुम्हें मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा||

तुम जिस शय्या पर शयन करो
वह क्षीर सिन्धु सी पावन हो
जिस आँगन की हो मौलश्री
वह आँगन क्या वृन्दावन हो
जिन अधरों का चुम्बन पाओ
वे अधर नहीं गंगातट हों
जिसकी छाया बन साथ रहो
वह व्यक्ति नहीं वंशीवट हो
पर मैं वट जैसा सघन छाँह विस्तार नहीं दे पाऊँगा|
तुम मुझको करना माफ तुम्हें मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा||

मै तुमको चाँद सितारों का
सौंपू उपहार भला कैसे
मैं यायावर बंजारा साधू
सुर श्रृंगार भला कैसे
मैन जीवन के प्रश्नों से नाता तोड तुम्हारे साथ शुभे
बारूद बिछी धरती पर कर लूँ
दो पल प्यार भला कैसे
इसलिये विवश हर आँसू को सत्कार नहीं दे पाऊँगा|
तुम मुझको करना माफ तुम्हें मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा||
o kalpavraksh kee sonajuhee!
o amalataash kee amalakalee!
dharatee ke aatap se jalate...
man par chhaee nirmal badalee...
main tumako madhusadagandh yukt sansaar nahin de paoonga|
tum mujhako karana maaph tumhen main pyaar nahin de paoonga||

tum kalpavraksh ka phool aur
main dharatee ka adana gaayak
tum jeevan ke upabhog yogy
main nahin svayan apane laayak
tum nahin adhooree gajal shubhe
tum shaam gaan see paavan ho
him shikharon par sahasa kaundhee
bijuree see tum manabhaavan ho.
isaliye vyarth shabdon vaala vyaapaar nahin de paoonga|
tum mujhako karana maaph tumhen main pyaar nahin de paoonga||

tum jis shayya par shayan karo
vah ksheer sindhu see paavan ho
jis aangan kee ho maulashree
vah aangan kya vrndaavan ho
jin adharon ka chumban pao
ve adhar nahin gangaatat hon
jisakee chhaaya ban saath raho
vah vyakti nahin vansheevat ho
par main vat jaisa saghan chhaanh vistaar nahin de paoonga|
tum mujhako karana maaph tumhen main pyaar nahin de paoonga||

mai tumako chaand sitaaron ka
saumpoo upahaar bhala kaise
main yaayaavar banjaara saadhoo
sur shrrngaar bhala kaise
main jeevan ke prashnon se naata tod tumhaare saath shubhe
baarood bichhee dharatee par kar loon
do pal pyaar bhala kaise
isaliye vivash har aansoo ko satkaar nahin de paoonga|
tum mujhako karana maaph tumhen main pyaar nahin de paoonga||

Thursday, 29 June 2017

बालपन खेड लै कुड़ीए नीं,


बालपन खेड लै कुड़ीए नीं,
तेरा अज्ज कि कल्ह मुकलावा ।।

खेनूड़ा खिडन्दीए कुड़ीए,
कन्नु सुइने दा वाला,
साहुरड़े घरि अलबत जाणा,
पेईए कूड़ा दावा ।1।

सावनु मांह सरंगड़ा आया,
दिस्सन सावें तल्ले,
कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
अजु आए कल्ह चल्ले ।2।

baalapan khed lai kudeee neen,
tera ajj ki kalh mukalaava ..

khenooda khidandeee kudeee,
kannu suine da vaala,
saahurade ghari alabat jaana,
peeee kooda daava .1.

saavanu maanh sarangada aaya,
dissan saaven talle,
kahai husain fakeer saeen da,
aju aae kalh challe .2.

आशक होवैं तां इशक कमावैं


आशक होवैं तां इशक कमावैं ।।

राह इशक दा सूई दा नक्का,
तागा होवे तां जावैं ।1।

बाहर पाक अन्दर आलूदा,
क्या तूं शेख कहावैं ।2।

कहै हुसैन जे फारग थीवैं,
तां खास मुरातबा पावैं ।3।

aashak hovain taan ishak kamaavain ..

raah ishak da sooee da nakka,
taaga hove taan jaavain .1.

baahar paak andar aalooda,
kya toon shekh kahaavain .2.

kahai husain je phaarag theevain,
taan khaas muraataba paavain .3.

दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ

दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ
बाज़ार से गुज़रा हूँ, ख़रीददार नहीं हूँ

ज़िन्दा हूँ मगर ज़ीस्त की लज़्ज़त नहीं बाक़ी
हर चंद कि हूँ होश में, होशियार नहीं हूँ

इस ख़ाना-ए-हस्त से गुज़र जाऊँगा बेलौस
साया हूँ फ़क़्त, नक़्श बेदीवार नहीं हूँ

अफ़सुर्दा हूँ इबारत से, दवा की नहीं हाजित
गम़ का मुझे ये जो’फ़ है, बीमार नहीं हूँ

वो गुल हूँ ख़िज़ां ने जिसे बरबाद किया है
उलझूँ किसी दामन से मैं वो ख़ार नहीं हूँ

यारब मुझे महफ़ूज़ रख उस बुत के सितम से
मैं उस की इनायत  का तलबगार नहीं हूँ

अफ़सुर्दगी-ओ-जौफ़ की कुछ हद नहीं “अकबर”
क़ाफ़िर  के मुक़ाबिल में भी दींदार नहीं हूँ


duniya mein hoon duniya ka talabagaar nahin hoon
baazaar se guzara hoon, khareedadaar nahin hoon

zinda hoon magar zeest kee lazzat nahin baaqee
har chand ki hoon hosh mein, hoshiyaar nahin hoon

is khaana-e-hast se guzar jaoonga belaus
saaya hoon faqt, naqsh bedeevaar nahin hoon

afasurda hoon ibaarat se, dava kee nahin haajita
gam ka mujhe ye jo’fa hai, beemaar nahin hoon

vo gul hoon khizaan ne jise barabaad kiya hai
ulajhoon kisee daaman se main vo khaar nahin hoon

yaarab mujhe mahafooz rakh us but ke sitam se
main us kee inaayat ka talabagaar nahin hoon

afasurdagee-o-jauf kee kuchh had nahin “akabar”
qaafir ke muqaabil mein bhee deendaar nahin hoon

आउ कुड़े रलि झूंमर पाउ नीं shah hussain


आउ कुड़े रलि झूंमर पाउ नीं,
आउ कुड़े रलि रामु ध्याउ नीं ।
मान लै गलियां बाबलु वालियां,
वति न खेडनि देसिया माउ नीं ।।

साडा जीउ मिलनु नूं करदा,
सुंञा लोक बख़ीली करदा ।
सानूं मिलन दा पहलड़ा चाउ नीं ।1।

सईआं वसनि रंगि महलीं,
चाउ जिनां दे खेडनि चल्ली ।
हथि अटेरन रह गई छल्ली,
दरि मुकलाऊ बैठे आउ नीं ।2।

उच्चे पिप्पल पींघां पईआं,
सभ सईआं मिल झूटनि गईआं ।
आपो आपनी गई लंघाउ नीं ।3।

कहै हुसैन फ़कीर निमाणा,
दुनियां छोडि आख़र मरि जाना ।
कदी तां अन्दरि झाती पाउ नीं ।4।

aau kude rali jhoommar pau neen,
aau kude rali raamu dhyau neen .
maan lai galiyaan baabalu vaaliyaan,
vati na khedani desiya mau neen ..

saada jeeu milanu noon karada,
sunna lok bakheelee karada .
saanoon milan da pahalada chau neen .1.

saeeaan vasani rangi mahaleen,
chau jinaan de khedani challee .
hathi ateran rah gaee chhallee,
dari mukalaoo baithe aau neen .2.

uchche pippal peenghaan paeeaan,
sabh saeeaan mil jhootani gaeeaan .
aapo aapanee gaee langhau neen .3.

kahai husain fakeer nimaana,
duniyaan chhodi aakhar mari jaana .
kadee taan andari jhaatee pau neen .4.

दिल मेरा जिस से बहलता

दिल मेरा जिस से बहलता कोई ऐसा न मिला
बुत के बंदे तो मिले अल्लाह का बंदा न मिला
बज़्म-ए-याराँ से फिरी बाद-ए-बहारी मायूस
एक सर भी उसे आमादा-ए-सौदा न मिला
गुल के ख्व़ाहाँ तो नज़र आए बहुत इत्रफ़रोश
तालिब-ए-ज़मज़म-ए-बुलबुल-ए-शैदा न मिला
वाह क्या राह दिखाई हमें मुर्शिद ने
कर दिया काबे को गुम और कलीसा न मिला
सय्यद उठे तो गज़ट ले के तो लाखों लाए
शेख़ क़ुरान दिखाता फिरा पैसा न मिला

dil mera jis se bahalata koee aisa na mila
but ke bande to mile allaah ka banda na mila

bazm-e-yaaraan se phiree baad-e-bahaaree maayoos
ek sar bhee use aamaada-e-sauda na mila

gul ke khvaahaan to nazar aae bahut itrafarosh
taalib-e-zamazam-e-bulabul-e-shaida na mila

vaah kya raah dikhaee hamen murshid ne
kar diya kaabe ko gum aur kaleesa na mila

sayyad uthe to gazat le ke to laakhon lae
shekh quraan dikhaata phira paisa na mila

आखर दा दम बुझि, वे अड़्या

आखर दा दम बुझि, वे अड़्या ।रहाउ।

सारी उमर वंञायआ एवें,
बाकी रहिया ना कुझ वे अड़्या ।1।

दरि ते आइ लथे वापारी,
जैथों लीतिया वसत उधारी,
जां तरि थींदा ही गुझि वे अड़्या ।2॥

कहै हुसैन फ़कीर साईं दा,
लुझ कुलुझि न लुझि वे अड़्या ।3॥


aakhar da dam bujhi, ve adya .rahau.

saaree umar vannaaya even,
baakee rahiya na kujh ve adya .1.

dari te aai lathe vaapaaree,
jaithon leetiya vasat udhaaree,
jaan tari theenda hee gujhi ve adya .2.

kahai husain fakeer saeen da,
lujh kulujhi na lujhi ve adya .3.

निकल आये इधर जनाब कहाँ

निकल आये इधर जनाब कहाँ 
रात के वक़्त आफ़ताब कहाँ

सब खिले हैं किसी के आरिज़ पर 
इस बरस बाग़ में गुलाब कहाँ 

मेरे होंठों पे तेरी ख़ुश्बू है
छू सकेगी इन्हें शराब कहाँ 

मेरी आँखें किसी के आँसू हैं 
वर्ना इन पत्थरों में आब कहाँ

nikal aaye idhar janaab kahaan 
raat ke vaqt aafataab kahaan

sab khile hain kisee ke aariz par 
is baras baag mein gulaab kahaan 

mere honthon pe teree khushboo hai
chhoo sakegee inhen sharaab kahaan 

meree aankhen kisee ke aansoo hain 
varna in pattharon mein aab kahaan