Monday, 31 July 2017

फिर बसंत आना है

तूफ़ानी लहरें हों
अम्बर के पहरे हों
पुरवा के दामन पर दाग़ बहुत गहरे हों
सागर के माँझी मत मन को तू हारना
जीवन के क्रम में जो खोया है, पाना है
पतझर का मतलब है फिर बसंत आना है

राजवंश रूठे तो
राजमुकुट टूटे तो
सीतापति-राघव से राजमहल छूटे तो
आशा मत हार, पार सागर के एक बार
पत्थर में प्राण फूँक, सेतु फिर बनाना है
पतझर का मतलब है फिर बसंत आना है

घर भर चाहे छोड़े
सूरज भी मुँह मोड़े
विदुर रहे मौन, छिने राज्य, स्वर्णरथ, घोड़े
माँ का बस प्यार, सार गीता का साथ रहे
पंचतत्व सौ पर है भारी, बतलाना है
जीवन का राजसूय यज्ञ फिर कराना है
पतझर का मतलब है, फिर बसंत आना है

toofaanee laharen hon
ambar ke pahare hon
purava ke daaman par daag bahut gahare hon
saagar ke maanjhee mat man ko too haarana
jeevan ke kram mein jo khoya hai, paana hai
patajhar ka matalab hai phir basant aana hai

raajavansh roothe to
raajamukut toote to
seetaapati-raaghav se raajamahal chhoote to
aasha mat haar, paar saagar ke ek baar
patthar mein praan phoonk, setu phir banaana hai
patajhar ka matalab hai phir basant aana hai

ghar bhar chaahe chhode
sooraj bhee munh mode
vidur rahe maun, chhine raajy, svarnarath, ghode
maan ka bas pyaar, saar geeta ka saath rahe
panchatatv sau par hai bhaaree, batalaana hai
jeevan ka raajasooy yagy phir karaana hai
patajhar ka matalab hai, phir basant aana hai

Saturday, 29 July 2017

फिरे राह से वो यहाँ आते आते

फिरे राह से वो यहाँ आते आते
अजल मेरी रही तू कहाँ आते आते
मुझे याद करने से ये मुद्दा था
निकल जाए दम हिचकियां आते आते
कलेजा मेरे मुंह को आएगा इक दिन
यूं ही लब पे आह-ओ-फ़ुगां आते आते
नतीजा न निकला थके सब पयामी
वहाँ जाते जाते यहाँ आते आते
नहीं खेल ऐ 'दाग़' यारों से कह दो
कि आती है उर्दू ज़ुबां आते आते 

phire raah se vo yahaan aate aate
ajal meree rahee too kahaan aate aate

mujhe yaad karane se ye mudda tha
nikal jae dam hichakiyaan aate aate

kaleja mere munh ko aaega ik din
yoon hee lab pe aah-o-fugaan aate aate

nateeja na nikala thake sab payaamee
vahaan jaate jaate yahaan aate aate

nahin khel ai daag yaaron se kah do
ki aatee hai urdoo zubaan aate aate

नज़र से गुफ़्तगू ख़ामोश लब तुम्हारी तरह

नज़र से गुफ़्तगू ख़ामोश लब तुम्हारी तरह 
ग़ज़ल ने सीखे हैं अंदाज़ सब तुम्हारी तरह 

जो प्यास तेज़ हो तो रेत भी हैं चादरे आब 
दिखाई दूर से देते हैं सब तुम्हारी तरह 

हवा की तरह मैं बेताब हूँ के शाख़ ए गुलाब 
लहकती है मिरी आहट पे अब तुम्हारी तरह 

मिशाल ए वक़्त में तस्वीर ए सुबह शाम हूँ अब 
मिरे वजूद पे छाई है शब तुम्हारी तरह 

सुनाते हैं मुझे ख़्वाबों की दास्ताँ अक़्सर
कहानियों के पुर असरार लब तुम्हारी तरह

nazar se guftagoo khaamosh lab tumhaaree tarah 
gazal ne seekhe hain andaaz sab tumhaaree tarah 

jo pyaas tez ho to ret bhee hain chaadare aab 
dikhaee door se dete hain sab tumhaaree tarah 

hava kee tarah main betaab hoon ke shaakh e gulaab 
lahakatee hai miree aahat pe ab tumhaaree tarah 

mishaal e vaqt mein tasveer e subah shaam hoon ab 
mire vajood pe chhaee hai shab tumhaaree tarah 

sunaate hain mujhe khvaabon kee daastaan aqsar
kahaaniyon ke pur asaraar lab tumhaaree tarah

तारों के चिलमनों से कोई झांकता भी हो

तारों के चिलमनों से कोई झांकता भी हो 
इस कायनात में कोई मंज़र नया भी हो 

इतनी सियाह रात में किसको सदायें दूँ 
ऐसा चिराग़ दे जो कभी बोलता भी हो 

दरवेश कोई आये तो आराम से रहे 
तेरे फ़क़ीर का घर इतना बड़ा भी हो 

सारे पहाड़ काट के मैं मिलने आऊंगा 
हाँ मेरे इन्तिज़ार में दरिया रुका भी हो 

रंगों की क्या बहार है पत्थर के बाग़ में 
लेकिन मेरी ज़मीं का इक हिस्सा भी हो 

उसके लिए तो मैंने यहाँ तक दुआएं की 
मेरी तरह से कोई उसे चाहता भी हो

taaron ke chilamanon se koee jhaankata bhee ho 
is kaayanaat mein koee manzar naya bhee ho 

itanee siyaah raat mein kisako sadaayen doon 
aisa chiraag de jo kabhee bolata bhee ho 

daravesh koee aaye to aaraam se rahe 
tere faqeer ka ghar itana bada bhee ho 

saare pahaad kaat ke main milane aaoonga 
haan mere intizaar mein dariya ruka bhee ho 

rangon kee kya bahaar hai patthar ke baag mein 
lekin meree zameen ka ik hissa bhee ho 

usake lie to mainne yahaan tak duaen kee 
meree tarah se koee use chaahata bhee ho

सुनो पानी में किसकी सदा है

सुनो पानी में किसकी सदा है 
कोई दरिया की तह में रो रहा है 

सवेरे मेरी इन आँखों ने देखा 
ख़ुदा चारों तरफ़ बिखरा हुआ है 

समेटो और सीने में छुपा लो 
ये सन्नाटा बहुत फैला हुआ है 

पके गेहूँ की ख़ुश्बू चीखती है 
बदन अपना सुनहरा हो चला है 

हक़ीक़त सुर्ख़ मछली जानती है 
समंदर कैसा बूढ़ा देवता है 

हमारी शाख़ का नौ-खेज़ पत्ता 
हवा के होंठ अक़्सर चूमता है 

मुझे उन नीली आँखों ने बताया 
तुम्हारा नाम पानी पर लिखा है


suno paanee mein kisakee sada hai 
koee dariya kee tah mein ro raha hai 

savere meree in aankhon ne dekha 
khuda chaaron taraf bikhara hua hai 

sameto aur seene mein chhupa lo 
ye sannaata bahut phaila hua hai 

pake gehoon kee khushboo cheekhatee hai 
badan apana sunahara ho chala hai 

haqeeqat surkh machhalee jaanatee hai 
samandar kaisa boodha devata hai 

hamaaree shaakh ka nau-khez patta 
hava ke honth aqsar choomata hai 

mujhe un neelee aankhon ne bataaya 
tumhaara naam paanee par likha hai

माटी की कच्ची गागर को क्या खोना क्या पाना बाबा

माटी की कच्ची गागर को क्या खोना क्या पाना बाबा 
माटी को माटी है रहना, माटी में मिल जाना बाबा 

हम क्या जानें दीवारों से कैसे धूप उतरती होगी 
रात रहे बहार जाना है, रात गए घर आना बाबा 

जिस लकड़ी को अन्दर-अन्दर दीमक बिलकुल चाट चुकी हो 
उसको ऊपर चमकाना, राख पे धूप जमाना बाबा 

प्यार की गहरी फुन्कारों से सारा बदन आकाश हुआ है 
दूध पिलाना तन डसवाना, है दस्तूर पुराना बाबा 

इन ऊँचे शहरों में पैदल सिर्फ़ दिहाती ही चलते हैं
हमको बाज़ारों से इक दिन काँधे पर ले जाना बाबा


maatee kee kachchee gaagar ko kya khona kya paana baaba 
maatee ko maatee hai rahana, maatee mein mil jaana baaba 

ham kya jaanen deevaaron se kaise dhoop utaratee hogee 
raat rahe bahaar jaana hai, raat gae ghar aana baaba 

jis lakadee ko andar-andar deemak bilakul chaat chukee ho 
usako oopar chamakaana, raakh pe dhoop jamaana baaba 

pyaar kee gaharee phunkaaron se saara badan aakaash hua hai 
doodh pilaana tan dasavaana, hai dastoor puraana baaba 

in oonche shaharon mein paidal sirf dihaatee hee chalate hain
hamako baazaaron se ik din kaandhe par le jaana baaba

सोये कहाँ थे आँखों ने तकिये भिगोए थे

सोये कहाँ थे आँखों ने तकिये भिगोए थे 
हम भी कभी किसी के लिए ख़ूब रोए थे

अँगनाई में खड़े हुए बेरी के पेड़ से 
वो लोग चलते वक़्त गले मिल के रोए थे 

हर साल ज़र्द फूलों का इक क़ाफ़िला रुका 
उसने जहाँ पे धूल अटे पाँव धोए थे 

आँखों की कश्तियों में सफ़र कर रहे हैं वो 
जिन दोस्तों ने दिल के सफ़ीने डुबोए थे

कल रात मैं था मेरे अलावा कोई न था 
शैतान मर गया था फ़रिश्ते भी सोए थे

soye kahaan the aankhon ne takiye bhigoe the 
ham bhee kabhee kisee ke lie khoob roe the

anganaee mein khade hue beree ke ped se 
vo log chalate vaqt gale mil ke roe the 

har saal zard phoolon ka ik qaafila ruka 
usane jahaan pe dhool ate paanv dhoe the 

aankhon kee kashtiyon mein safar kar rahe hain vo 
jin doston ne dil ke safeene duboe the

kal raat main tha mere alaava koee na tha 
shaitaan mar gaya tha farishte bhee soye the

Friday, 28 July 2017

कोई लश्कर है कि बढ़ते हुए ग़म आते हैं

कोई लश्कर है कि बढ़ते हुए ग़म आते हैं 
शाम के साए बहुत तेज़ क़दम आते हैं 

दिल वो दरवेश है जो आँख उठाता ही नहीं 
इसके दरवाजे पे सौ अहले-करम आते हैं
 
मुझ से क्या बात लिखानी है कि अब मेरे लिए 
कभी सोने कभी चाँदी के क़लम आते हैं 

मैंने दो -चार किताबें तो पढ़ी हैं लेकिन 
शहर के तौर-तरीक़े मुझे कम आते हैं
 
ख़ूबसूरत-सा कोई हादसा आँखों में लिये
घर की दहलीज़ पे डरते हुए हम आते हैं

koee lashkar hai ki badhate hue gam aate hain 
shaam ke sae bahut tez qadam aate hain 

dil vo daravesh hai jo aankh uthaata hee nahin 
isake daravaaje pe sau ahale-karam aate hain

mujh se kya baat likhaanee hai ki ab mere lie 
kabhee sone kabhee chaandee ke qalam aate hain 

mainne do -chaar kitaaben to padhee hain lekin 
shahar ke taur-tareeqe mujhe kam aate hain

khoobasoorat-sa koee haadasa aankhon mein liye
ghar kee dahaleez pe darate hue ham aate hain

मैं ग़ज़ल कहूँ मैं ग़ज़ल पढूँ, मुझे दे तो हुस्न-ए-ख़्याल दे

मैं ग़ज़ल कहूँ मैं ग़ज़ल पढूँ, मुझे दे तो हुस्न-ए-ख़्याल दे 
तिरा ग़म ही मेरी तरबियत, मुझे दे तो रंज-ए-मलाल दे 

सभी चार दिन की हैं चांदनी, ये रियासतें ये वज़ारतें
मुझे उस फ़क़ीर की शान दे, के ज़माना जिसकी मिसाल दे 

मेरी सुब्हा तेरे सलाम से, मिरी शाम है तेरे नाम से 
तिरे दर को छोड़ के जाऊँगा, ये ख़्याल दिल से निकाल दे 

मिरे सामने जो पहाड़ थे, सभी सर झुका के चले गए 
जिसे चाहे तू ये उरूज दे, जिसे चाहे तू ये ज़वाल दे 

बड़े शौक़ से इन्हीं पत्थरों को, शिकम से बाँध के सो रहूँ 
मुझे माल ए मुफ़्त हराम है, मुझे दे तो रिज़्क-ए-हलाल दे


main gazal kahoon main gazal padhoon, mujhe de to husn-e-khyaal de 
tira gam hee meree tarabiyat, mujhe de to ranj-e-malaal de 

sabhee chaar din kee hain chaandanee, ye riyaasaten ye vazaaraten
mujhe us faqeer kee shaan de, ke zamaana jisakee misaal de 

meree subha tere salaam se, miree shaam hai tere naam se 
tire dar ko chhod ke jaoonga, ye khyaal dil se nikaal de 

mire saamane jo pahaad the, sabhee sar jhuka ke chale gae 
jise chaahe too ye urooj de, jise chaahe too ye zavaal de 

bade shauq se inheen pattharon ko, shikam se baandh ke so rahoon 
mujhe maal e muft haraam hai, mujhe de to rizk-e-halaal de

हमारे हाथों में इक शक़्ल चाँद जैसी थी

हमारे हाथों में इक शक़्ल चाँद जैसी थी 
तुम्हें ये कैसे बताएं वो रात कैसी थी

महक रहे थे मिरे होंठ उसकी ख़ुश्बू से
अजीब आग थी बिलकुल गुलाब जैसी थी 

उसी में सब थे मिरी माँ बहन बीबी भी 
समझ रहा था जिसे मैं वो ऐसी वैसी थी 

तुम्हारे घर के सभी रास्तों को काट गयी 
हमारे हाथ में कोई लक़ीर ऐसी थी

hamaare haathon mein ik shaql chaand jaisee thee 
tumhen ye kaise bataen vo raat kaisee thee

mahak rahe the mire honth usakee khushboo se
ajeeb aag thee bilakul gulaab jaisee thee 

usee mein sab the miree maan bahan beebee bhee 
samajh raha tha jise main vo aisee vaisee thee 

tumhaare ghar ke sabhee raaston ko kaat gayee 
hamaare haath mein koee laqeer aisee thee

रेत भरी है इन आँखों में आँसू से तुम धो लेना

रेत भरी है इन आँखों में आँसू से तुम धो लेना 
कोई सूखा पेड़ मिले तो उससे लिपट के रो लेना 

इसके बाद बहुत तन्हा हो जैसे जंगल का रास्ता 
जो भी तुमसे प्यार से बोले साथ उसी के हो लेना 

कुछ तो रेत की प्यास बुझाओ जन्म-जन्म की प्यासी है 
साहिल पर चलने से पहले अपने पाँव भिगो लेना 

मैंने दरिया से सीखी है पानी की पर्दादारी 
ऊपर-ऊपर हंसते रहना गहराई में रो लेना 

रोते क्यूँ हो दिलवालों की क़िस्मत ऐसी होती है 
सारी रात यूँ ही जागोगे दिन निकले तो सो लेना

ret bharee hai in aankhon mein aansoo se tum dho lena 
koee sookha ped mile to usase lipat ke ro lena 

isake baad bahut tanha ho jaise jangal ka raasta 
jo bhee tumase pyaar se bole saath usee ke ho lena 

kuchh to ret kee pyaas bujhao janm-janm kee pyaasee hai 
saahil par chalane se pahale apane paanv bhigo lena 

mainne dariya se seekhee hai paanee kee pardaadaaree 
oopar-oopar hansate rahana gaharaee mein ro lena 

rote kyoon ho dilavaalon kee qismat aisee hotee hai 
saaree raat yoon hee jaagoge din nikale to so lena

Thursday, 27 July 2017

शौक़ है उसको ख़ुदनुमाई का

शौक़ है उसको ख़ुदनुमाई का
अब ख़ुदा हाफ़िज़, इस ख़ुदाई का

वस्ल पैग़ाम है जुदाई का
मौत अंजाम आशनाई का

दे दिया रंज इक ख़ुदाई का
सत्यानाश हो जुदाई का

किसी बन्दे को दर्दे-इश्क़ न दे
वास्ता अपनी क़िब्रियाई का

सुलह के बाद वो मज़ा न रहा
रोज़ सामान था लड़ाई का

अपने होते अदू पे आने दें
क्यों इल्ज़ाम बेवफ़ाई का

अश्क़ आँखों में दाग़ है दिल में
ये नतीजा है आशनाई का

हँसी आती है अपने रोने पे
और रोना है जग हँसाई का

उड़ गये होश दाम में फँस कर
क़ैद क्या नाम है रिहाई का

shauq hai usako khudanumaee ka
ab khuda haafiz, is khudaee ka

vasl paigaam hai judaee ka
maut anjaam aashanaee ka

de diya ranj ik khudaee ka
satyaanaash ho judaee ka

kisee bande ko darde-ishq na de
vaasta apanee qibriyaee ka

sulah ke baad vo maza na raha
roz saamaan tha ladaee ka

apane hote adoo pe aane den
kyon ilzaam bevafaee ka

ashq aankhon mein daag hai dil mein
ye nateeja hai aashanaee ka

hansee aatee hai apane rone pe
aur rona hai jag hansaee ka

ud gaye hosh daam mein phans kar
qaid kya naam hai rihaee ka

मेरे सीने पर वह सर रक्खे हुए सोता रहा

मेरे सीने पर वह सर रक्खे हुए सोता रहा 
जाने क्या थी बात मैं जागा किया रोता रहा 

वादियों में गाह उतरा और कभी पर्वत चढ़ा
बोझ सा इक दिल पे रक्खा था जिसे ढोता रहा 

गाह पानी गाह शबनम और कभी ख़ूनाब से
एक ही था दाग़ सीने में जिसे धोता रहा

इक हवा ए बेताकां से आख़िरश मुरझा गया 
जिंदगी भर जो मोहब्बत करके शजर बोता रहा 

रोने वाले ने उठा रक्खा था घर सर पर मगर 
उम्र भर का जागने वाला पड़ा सोता रहा 

रात की पलकों पे तारों की तरह जागा किया 
सुबह की आँखों में शबनम की तरह रोता रहा 

रोशनी को रंग करके ले गए जिस रात लोग 
कोई साया मेरे कमरे में छिपा रोता रहा

mere seene par vah sar rakkhe hue sota raha 
jaane kya thee baat main jaaga kiya rota raha 

vaadiyon mein gaah utara aur kabhee parvat chadha
bojh sa ik dil pe rakkha tha jise dhota raha 

gaah paanee gaah shabanam aur kabhee khoonaab se
ek hee tha daag seene mein jise dhota raha

ik hava e betaakaan se aakhirash murajha gaya 
jindagee bhar jo mohabbat karake shajar bota raha 

rone vaale ne utha rakkha tha ghar sar par magar 
umr bhar ka jaagane vaala pada sota raha 

raat kee palakon pe taaron kee tarah jaaga kiya 
subah kee aankhon mein shabanam kee tarah rota raha 

roshanee ko rang karake le gae jis raat log 
koee saaya mere kamare mein chhipa rota raha

तेरी महफ़िल में यह कसरत कभी थी

तेरी महफ़िल में यह कसरत कभी थी
हमारे रंग की सोहबत कभी थी

इस आज़ादी में वहशत कभी थी
मुझे अपने से भी नफ़रत कभी थी

हमारा दिल, हमारा दिल कभी था
तेरी सूरत, तेरी सूरत कभी थी

हुआ इन्सान की आँखों से साबित
अयाँ कब नूर में जुल्मत कभी थी

दिल-ए-वीराँ में बाक़ी हैं ये आसार
यहाँ ग़म था, यहाँ हसरत कभी थी

तुम इतराए कि बस मरने लगा ‘दाग़’
बनावट थी जो वह हालत कभी थी.

teree mahafil mein yah kasarat kabhee thee
hamaare rang kee sohabat kabhee thee

is aazaadee mein vahashat kabhee thee
mujhe apane se bhee nafarat kabhee thee

hamaara dil, hamaara dil kabhee tha
teree soorat, teree soorat kabhee thee

hua insaan kee aankhon se saabit
ayaan kab noor mein julmat kabhee thee

dil-e-veeraan mein baaqee hain ye aasaar
yahaan gam tha, yahaan hasarat kabhee thee

tum itarae ki bas marane laga ‘daag’
banaavat thee jo vah haalat kabhee thee.