Thursday, 31 August 2017

शबनम हूँ सुर्ख़ फूल पे बिखरा हुआ हूँ मैं

शबनम हूँ सुर्ख़ फूल पे बिखरा हुआ हूँ मैं 
दिल मोम और धूप में बैठा हुआ हूँ मैं 

कुछ देर बाद राख मिलेगी तुम्हें यहाँ 
लौ बन के इस चराग़ से लिपटा हुआ हूँ मैं 

दो सख़्त खुश्क़ रोटियां कब से लिए हुए 
पानी के इन्तिज़ार में बैठा हुआ हूँ मैं 

लाठी उठा के घाट पे जाने लगे हिरन 
कैसे अजीब दौर में पैदा हुआ हूँ मैं 

नस-नस में फैल जाऊँगा बीमार रात की 
पलकों पे आज शाम से सिमटा हुआ हूँ मैं 

औराक़ में छिपाती थी अक़्सर वो तितलियाँ 
शायद किसी किताब में रक्खा हुआ हूँ मैं 

दुनिया हैं बेपनाह तो भरपूर ज़िंदगी
दो औरतों के बीच में लेटा हुआ मैं 

shabanam hoon surkh phool pe bikhara hua hoon main 
dil mom aur dhoop mein baitha hua hoon main 

kuchh der baad raakh milegee tumhen yahaan 
lau ban ke is charaag se lipata hua hoon main 

do sakht khushq rotiyaan kab se lie hue 
paanee ke intizaar mein baitha hua hoon main 

laathee utha ke ghaat pe jaane lage hiran 
kaise ajeeb daur mein paida hua hoon main 

nas-nas mein phail jaoonga beemaar raat kee 
palakon pe aaj shaam se simata hua hoon main 

auraaq mein chhipaatee thee aqsar vo titaliyaan 
shaayad kisee kitaab mein rakkha hua hoon main 

duniya hain bepanaah to bharapoor zindagee
do auraton ke beech mein leta hua main

कल मिरे क़त्ल को इस ढब से वो बाँका निकला


कल मिरे क़त्ल को इस ढब से वो बाँका निकला
मुँह से जल्लाद-ए-फ़लक के भी अहाहा निकला

आगे आहों के निशाँ समझे मिरे अश्कों के
आज इस धूम से ज़ालिम तिरा शैदा निकला

यूँ तो हम कुछ न थे पर मिस्ल-ए-अनार-ओ-महताब
जब हमें आग लगाई तो तमाशा निकला

क्या ग़लत-फ़हमी है सद-हैफ़ कि मरते दम तक
जिस को हम समझे थे क़ातिल वो मसीहा निकला

ग़म में हम भान-मती बन के जहाँ बैठे थे
इत्तिफ़ाक़न कहीं वो शोख़ भी वाँ आ निकला

सीने की आग दिखाने को दहन से मेरे
शोले पर शोला भभूके पे भभूका निकला

मत शफ़क़ कह ये तिरा ख़ून फ़लक पर है ‘नज़ीर’
देख टपका था कहाँ और कहाँ जा निकला

kal mire qatl ko is dhab se vo baanka nikala
munh se jallaad-e-falak ke bhee ahaaha nikala

aage aahon ke nishaan samajhe mire ashkon ke
aaj is dhoom se zaalim tira shaida nikala

yoon to ham kuchh na the par misl-e-anaar-o-mahataab
jab hamen aag lagaee to tamaasha nikala

kya galat-fahamee hai sad-haif ki marate dam tak
jis ko ham samajhe the qaatil vo maseeha nikala

gam mein ham bhaan-matee ban ke jahaan baithe the
ittifaaqan kaheen vo shokh bhee vaan aa nikala

seene kee aag dikhaane ko dahan se mere
shole par shola bhabhooke pe bhabhooka nikala

mat shafaq kah ye tira khoon falak par hai ‘nazeer’
dekh tapaka tha kahaan aur kahaan ja nikala

Wednesday, 30 August 2017

कहते हैं जिस को नज़ीर सुनिए टुक उस का बयाँ


कहते हैं जिस को नज़ीर सुनिए टुक उस का बयाँ
था वो मोअल्लिम ग़रीब बुज़दिल ओ तरसंदा-जाँ

कोई किताब इस के तईं साफ़ न थी दर्स की
आए तो मअनी कहे वर्ना पढ़ाई रवाँ

फ़हम न था इल्म से कुछ अरबी के उसे
फ़ारसी में हाँ मगर समझे था कुछ ईन ओ आँ

लिखने की ये तर्ज़ थी कुछ जो लिखे था कभी
पुख़्तगी ओ ख़ामी के उस का था ख़त दरमियाँ

शेर ओ ग़ज़ल के सिवा शौक़ न था कुछ उसे
अपने इसी शग़्ल में रहता था ख़ुश हर ज़माँ

सुस्त रविश पस्त क़द साँवला हिन्दी-नज़ाद
तन भी कुछ ऐसा ही था क़द के मुआफ़िक़ अयाँ

माथे पे इक ख़ाल था छोटा सा मस्से के तौर
था वो पड़ा आन कर अबरुओं के दरमियाँ

वज़्अ सुबुक उस की थी तिस पे न रखता था रीश
मूछैं थीं और कानों पर पट्टे भी थे पुम्बा-साँ

पीरी में जैसी कि थी उस को दिल-अफ़्सुर्दगी
वैसी ही रही थी उन दिनों जिन दिनों मैं था जवाँ

जितने ग़रज़ काम हैं और पढ़ाने सिवा
चाहिए कुछ उस से हों उतनी लियाक़त कहाँ

फ़ज़्ल ने अल्लाह के उस को दिया उम्र भर
इज़्ज़त-ओ-हुर्मत के साथ पारचा ओ आब-ओ-नाँ

kahate hain jis ko nazeer sunie tuk us ka bayaan
tha vo moallim gareeb buzadil o tarasanda-jaan 

koee kitaab is ke taeen saaf na thee dars kee
aae to maanee kahe varna padhaee ravaan

faham na tha ilm se kuchh arabee ke use
faarasee mein haan magar samajhe tha kuchh een o aan

likhane kee ye tarz thee kuchh jo likhe tha kabhee
pukhtagee o khaamee ke us ka tha khat daramiyaan

sher o gazal ke siva shauq na tha kuchh use
apane isee shagl mein rahata tha khush har zamaan

sust ravish past qad saanvala hindee-nazaad 
tan bhee kuchh aisa hee tha qad ke muaafiq ayaan

maathe pe ik khaal tha chhota sa masse ke taur
tha vo pada aan kar abaruon ke daramiyaan

vaz subuk us kee thee tis pe na rakhata tha reesh
moochhain theen aur kaanon par patte bhee the pumba-saan

peeree mein jaisee ki thee us ko dil-afsurdagee 
vaisee hee rahee thee un dinon jin dinon main tha javaan

jitane garaz kaam hain aur padhaane siva
chaahie kuchh us se hon utanee liyaaqat kahaan

fazl ne allaah ke us ko diya umr bhar
izzat-o-hurmat ke saath paaracha o aab-o-naan

Tuesday, 29 August 2017

ऐ सफ़-ए-मिज़्गाँ तकल्लुफ़ बर-तरफ़


ऐ सफ़-ए-मिज़्गाँ तकल्लुफ़ बर-तरफ़
देखती क्या है उलट दे सफ़ की सफ़

देख वो गोरा सा मुखड़ा रश्क से
पड़ गए हैं माह के मुँह पर कलफ़

आ गया जब बज़्म में वो शोला-रू
शम्अ तो बस हो गई जल कर तलफ़

साक़ी भी यूँ जाम ले कर रह गया

जिस तरह तस्वीर हो साग़र-ब-कफ़

ai saf-e-mizgaan takalluf bar-taraf
dekhatee kya hai ulat de saf kee saf

dekh vo gora sa mukhada rashk se
pad gae hain maah ke munh par kalaf

aa gaya jab bazm mein vo shola-roo
sham to bas ho gaee jal kar talaf

saaqee bhee yoon jaam le kar rah gaya
jis tarah tasveer ho saagar-ba-kaf

अब हम गुंम हूए, प्रेम नगर के शहर


अब हम गुंम हूए, प्रेम नगर के शहर ।
आपने आप नूं सोध रिहा हूं, ना सिर हाथ ना पैर ।
खुदी खोई अपना पद चीता, तब होई गल्ल ख़ैर ।
लत्थे पगड़े पहले घर थीं, कौन करे निरवैर ?
बुल्ल्हा शहु है दोहीं जहानीं, कोई ना दिसदा ग़ैर ।

ab ham gumm hooe, prem nagar ke shahar .
aapane aap noon sodh riha hoon, na sir haath na pair .
khudee khoee apana pad cheeta, tab hoee gall khair .
latthe pagade pahale ghar theen, kaun kare niravair ?
bullha shahu hai doheen jahaaneen, koee na disada gair .

नेह के सन्दर्भ बौने हो गए

नेह के सन्दर्भ बौने हो गए होंगे मगर,
फिर भी तुम्हारे साथ मेरी भावनायें हैं,
शक्ति के संकल्प बोझिल हो गये होंगे मगर,
फिर भी तुम्हारे चरण मेरी कामनायें हैं,
हर तरफ है भीड़ ध्वनियाँ और चेहरे हैं अनेकों,
तुम अकेले भी नहीं हो, मैं अकेला भी नहीं हूँ 
योजनों चल कर सहस्रों मार्ग आतंकित किये पर,
जिस जगह बिछुड़े अभी तक, तुम वहीं हों मैं वहीं हूँ 
गीत के स्वर-नाद थक कर सो गए होंगे मगर,
फिर भी तुम्हारे कंठ मेरी वेदनाएँ हैं,
नेह के सन्दर्भ बौने हो गए होंगे मगर,
फिर भी तुम्हारे साथ मेरी भावनायें हैं,
यह धरा कितनी बड़ी है एक तुम क्या एक मैं क्या?
दृष्टि का विस्तार है यह अश्रु जो गिरने चला है,
राम से सीता अलग हैं,कृष्ण से राधा अलग हैं,
नियति का हर न्याय सच्चा, हर कलेवर में कला है,
वासना के प्रेत पागल हो गए होंगे मगर,
फिर भी तुम्हरे माथ मेरी वर्जनाएँ हैं,
नेह के सन्दर्भ बौने हो गए होंगे मगर,
फिर भी तुम्हारे साथ मेरी भावनायें हैं,
चल रहे हैं हम पता क्या कब कहाँ कैसे मिलेंगे?
मार्ग का हर पग हमारी वास्तविकता बोलता है,
गति-नियति दोनों पता हैं उस दीवाने के हृदय को,
जो नयन में नीर लेकर पीर गाता डोलता है,
मानसी-मृग मरूथलों में खो गए होंगे मगर,
फिर भी तुम्हारे साथ मेरी योजनायें हैं,
नेह के सन्दर्भ बौने हो गए होंगे मगर,
फिर भी तुम्हारे साथ मेरी भावनायें हैं!


neh ke sandarbh baune ho gae honge magar,
phir bhee tumhaare saath meree bhaavanaayen hain,
shakti ke sankalp bojhil ho gaye honge magar,
phir bhee tumhaare charan meree kaamanaayen hain,
har taraph hai bheed dhvaniyaan aur chehare hain anekon,
tum akele bhee nahin ho, main akela bhee nahin hoon 
yojanon chal kar sahasron maarg aatankit kiye par,
jis jagah bichhude abhee tak, tum vaheen hon main vaheen hoon 
geet ke svar-naad thak kar so gae honge magar,
phir bhee tumhaare kanth meree vedanaen hain,
neh ke sandarbh baune ho gae honge magar,
phir bhee tumhaare saath meree bhaavanaayen hain,
yah dhara kitanee badee hai ek tum kya ek main kya?
drshti ka vistaar hai yah ashru jo girane chala hai,
raam se seeta alag hain,krshn se raadha alag hain,
niyati ka har nyaay sachcha, har kalevar mein kala hai,
vaasana ke pret paagal ho gae honge magar,
phir bhee tumhare maath meree varjanaen hain,
neh ke sandarbh baune ho gae honge magar,
phir bhee tumhaare saath meree bhaavanaayen hain,
chal rahe hain ham pata kya kab kahaan kaise milenge?
maarg ka har pag hamaaree vaastavikata bolata hai,
gati-niyati donon pata hain us deevaane ke hrday ko,
jo nayan mein neer lekar peer gaata dolata hai,
maanasee-mrg maroothalon mein kho gae honge magar,
phir bhee tumhaare saath meree yojanaayen hain,
neh ke sandarbh baune ho gae honge magar,
phir bhee tumhaare saath meree bhaavanaayen hain!

Monday, 28 August 2017

ऐ मिरी जान हमेशा हो तिरी जान की ख़ैर


ऐ मिरी जान हमेशा हो तिरी जान की ख़ैर
नाज़ुकी दौर-ए-बला, हुस्न के सामान की ख़ैर

रात दिन शाम सहर पहर घड़ी पल साअत
माँगते जाती है हम को तिरी आन आन की ख़ैर

मेहंदी चोटी हो सिवाई हो चमक पेटी की
उम्र चोटी की बड़ी ज़ुल्फ़-ए-परेशान की ख़ैर

बे-तरह बोझ से झुमकों के झुके पड़ते हैं
कीजो अल्लाह तू उन झुमकों की और कान की ख़ैर

पान खाया है तो इस वक़्त भी लाज़िम है यही
एक बोसा हमें दीजे लब-ओ-दंदान की ख़ैर

आँख उठा देखिए और देख के हँस भी दीजे
अपने काजल की ज़कात और मिसी-ओ-पान की ख़ैर

पहले जिस आन तुम्हारी ने लिया दिल हम से
अब तलक माँगते हैं दिल से हम उस आन की ख़ैर

क्या ग़ज़ब निकले है बन-ठन के वो काफ़िर यारो
आज होती नज़र आती नहीं ईमान की ख़ैर

जितने महबूब परी-ज़ाद हैं दुनिया में 'नज़ीर'
सब के अल्लाह करे हुस्न की और जान की ख़ैर

ai miree jaan hamesha ho tiree jaan kee khair
naazukee daur-e-bala, husn ke saamaan kee khair

raat din shaam sahar pahar ghadee pal saat
maangate jaatee hai ham ko tiree aan aan kee khair

mehandee chotee ho sivaee ho chamak petee kee
umr chotee kee badee zulf-e-pareshaan kee khair

be-tarah bojh se jhumakon ke jhuke padate hain
keejo allaah too un jhumakon kee aur kaan kee khair

paan khaaya hai to is vaqt bhee laazim hai yahee
ek bosa hamen deeje lab-o-dandaan kee khair

aankh utha dekhie aur dekh ke hans bhee deeje
apane kaajal kee zakaat aur misee-o-paan kee khair

pahale jis aan tumhaaree ne liya dil ham se
ab talak maangate hain dil se ham us aan kee khair

kya gazab nikale hai ban-than ke vo kaafir yaaro
aaj hotee nazar aatee nahin eemaan kee khair

jitane mahaboob paree-zaad hain duniya mein nazeer
sab ke allaah kare husn kee aur jaan kee khair

अब लगन लगी किह करिए


अब लगन लगी किह करिए ?
ना जी सकीए ते ना मरीए ।

तुम सुनो हमारी बैना,
मोहे रात दिने नहीं चैना,
हुन पी बिन पलक ना सरीए ।
अब लगन लगी किह करीए ?

इह अगन बिरहों दी जारी,
कोई हमरी प्रीत निवारी,
बिन दरशन कैसे तरीए ?
अब लगन लगी किह करीए ?

बुल्ल्हे पई मुसीबत भारी,
कोई करो हमारी कारी,
इक अजेहे दुक्ख कैसे जरीए ?
अब लगन लगी किह करीए ?

ab lagan lagee kih karie ?
na jee sakeee te na mareee .

tum suno hamaaree baina,
mohe raat dine nahin chaina,
hun pee bin palak na sareee .
ab lagan lagee kih kareee ?

ih agan birahon dee jaaree,
koee hamaree preet nivaaree,
bin darashan kaise tareee ?
ab lagan lagee kih kareee ?

bullhe paee museebat bhaaree,
koee karo hamaaree kaaree,
ik ajehe dukkh kaise jareee ?
ab lagan lagee kih kareee ?

Sunday, 27 August 2017

ऐ दिल अपनी तू चाह पर मत फूल


ऐ दिल अपनी तू चाह पर मत फूल
दिलबरों की निगाह पर मत फूल

इश्क़ करता है होश को बर्बाद
अक़्ल की रस्म-ओ-राह पर मत फूल

दाम है वो अरे कमंद है वो
देख ज़ुल्फ़-ए-सियाह पर मत फूल

वाह कह कर जो है वो हँस देता
आह इस ढब की वाह पर मत फूल

गिर पड़ेगा 'नज़ीर' की मानिंद
तू ज़नख़दाँ की चाह पर मत फूल

ai dil apanee too chaah par mat phool
dilabaron kee nigaah par mat phool

ishq karata hai hosh ko barbaad
aql kee rasm-o-raah par mat phool

daam hai vo are kamand hai vo
dekh zulf-e-siyaah par mat phool

vaah kah kar jo hai vo hans deta
aah is dhab kee vaah par mat phool

gir padega nazeer kee maanind
too zanakhadaan kee chaah par mat phool

वो दरुदों के सलामों के नगर याद आये

वो दरुदों के सलामों के नगर याद आये 
नाते पढ़ते हुए क़स्बात के घर याद आये 

घर की मस्जिद में वो नूरानी अज़ाँ से चेहरे 
ख़ानक़ाहों में दुआओं के शजर याद आये 

शाम के बाद कचहरी का थका सन्नाटा 
बेगुनाही को अदालत के हुनर याद आये 

मेरे सीने में सांस चुभा करती है 
जैसे मज़दूर को परदेश में घर याद आये 

कितने ख़त आये गए शाख़ में फूलों की तरह 
आज दरिया में चराग़ों के सफ़र याद आये

vo darudon ke salaamon ke nagar yaad aaye 
naate padhate hue qasbaat ke ghar yaad aaye 

ghar kee masjid mein vo nooraanee azaan se chehare 
khaanaqaahon mein duaon ke shajar yaad aaye 

shaam ke baad kachaharee ka thaka sannaata 
begunaahee ko adaalat ke hunar yaad aaye 

mere seene mein saans chubha karatee hai 
jaise mazadoor ko paradesh mein ghar yaad aaye 

kitane khat aaye gae shaakh mein phoolon kee tarah 
aaj dariya mein charaagon ke safar yaad aaye

Saturday, 26 August 2017

उसी की ज़ात को है दाइमन सबात-ओ-क़याम


उसी की ज़ात को है दाइमन सबात-ओ-क़याम
क़ादीर ओ हय ओ करीम ओ मुहैमिन ओ मिनआम

बुरूज बारा में ला कर रखी वो बारीकी
कि जिस को पहुँचे न फ़िक्रत न दानिश ओ औहाम

इधर फ़रिश्ता-ए-कर्रोबी और उधर ग़िल्माँ
क़लम को लौह पे बख़्शी है ताक़त-ए-इर्क़ाम

ये दो हैं शम्स ओ क़मर और साथ उन के यार
अतारद ओ ज़ुहल ओ ज़ोहरा मुश्तरी बहराम

जो चाहें एक पलक ठहरें ये सो ताक़त क्या
फिरा करेंगे ये आग़ाज़ से ले ता-अंजाम

बशर जो चाहे कि समझे उन्हें सो क्या इम्काँ
है याँ फ़रिश्तों की आजिज़ अक़ूल और इफ़हाम

निकाले उन से गुल ओ मेवा शाख़ ओ बर्ग-ओ-बार
सब उस के लुत्फ़-ओ-करम के हैं आम ये इनआम

इसी के बाग़ से दिल शाद हो के खाते हैं
छुहारे किशमिश ओ इंजीर ओ पिस्ता ओ बादाम

चमक रहा है उसी की ये क़ुदरतों का नूर
बहर-ज़माँ ओ बहर-साअत ओ बहर-हंगाम

कि उस का शुक्र करें शब से मा-ब-रोज़ अदा
इताअत उस की बजा लावें सुब्ह से ता-शाम

‘नज़ीर’ नुक्ता समझ मेहर-ओ-फ़ज़्ल-ए-ख़ालिक़ को
इसी के फ़ज़्ल से दोनों जहाँ में है आराम

usee kee zaat ko hai daiman sabaat-o-qayaam
qaadeer o hay o kareem o muhaimin o minaam

burooj baara mein la kar rakhee vo baareekee
ki jis ko pahunche na fikrat na daanish o auhaam

idhar farishta-e-karrobee aur udhar gilmaan
qalam ko lauh pe bakhshee hai taaqat-e-irqaam

ye do hain shams o qamar aur saath un ke yaar
ataarad o zuhal o zohara mushtaree baharaam

jo chaahen ek palak thaharen ye so taaqat kya
phira karenge ye aagaaz se le ta-anjaam

bashar jo chaahe ki samajhe unhen so kya imkaan
hai yaan farishton kee aajiz aqool aur ifahaam

nikaale un se gul o meva shaakh o barg-o-baar
sab us ke lutf-o-karam ke hain aam ye inaam

isee ke baag se dil shaad ho ke khaate hain
chhuhaare kishamish o injeer o pista o baadaam

chamak raha hai usee kee ye qudaraton ka noor
bahar-zamaan o bahar-saat o bahar-hangaam

ki us ka shukr karen shab se ma-ba-roz ada
itaat us kee baja laaven subh se ta-shaam

‘nazeer’ nukta samajh mehar-o-fazl-e-khaaliq ko
isee ke fazl se donon jahaan mein hai aaraam

उसी का देखना है ठानता दिल


उसी का देखना है ठानता दिल
जो है तीर-ए-निगह से छानता दिल

बहुत कहते हैं मत मिल उस से लेकिन
नहीं कहना हमारा मानता दिल

कहा उस ने ये हम से किस सनम को
तुम्हारा इन दिनों है मानता दिल

छुपाओगे तो छुपने का नहीं याँ
हमारा है निशाँ पहचानता दिल

कहा हम ने 'नज़ीर' उस से कि जिस ने
ये पूछा है उसी का जानता दिल

usee ka dekhana hai thaanata dil
jo hai teer-e-nigah se chhaanata dil

bahut kahate hain mat mil us se lekin
nahin kahana hamaara maanata dil

kaha us ne ye ham se kis sanam ko
tumhaara in dinon hai maanata dil

chhupaoge to chhupane ka nahin yaan
hamaara hai nishaan pahachaanata dil

kaha ham ne nazeer us se ki jis ne
ye poochha hai usee ka jaanata dil

Friday, 25 August 2017

लुत्फ़ इश्क़ में पाए हैं कि जी जानता है

लुत्फ़ इश्क़ में पाए हैं कि जी जानता है
रंज भी इतने उठाए हैं कि जी जानता है
जो ज़माने के सितम हैं वो ज़माना जाने
तूने दिल इतने दुखाए हैं कि जी जानता है
तुम नहीं जानते अब तक ये तुम्हारे अंदाज़
वो मेरे दिल में समाए हैं कि जी जानता है
इन्हीं क़दमों ने तुम्हारे इन्हीं क़दमों की क़सम
ख़ाक में इतने मिलाए हैं कि जी जानता है
दोस्ती में तेरी दरपर्दा हमारे दुश्मन
इस क़दर अपने पराए हैं कि जी जानता है

lutf ishq mein pae hain ki jee jaanata hai
ranj bhee itane uthae hain ki jee jaanata hai

jo zamaane ke sitam hain vo zamaana jaane
toone dil itane dukhae hain ki jee jaanata hai

tum nahin jaanate ab tak ye tumhaare andaaz
vo mere dil mein samae hain ki jee jaanata hai

inheen qadamon ne tumhaare inheen qadamon kee qasam
khaak mein itane milae hain ki jee jaanata hai

dostee mein teree daraparda hamaare dushman
is qadar apane parae hain ki jee jaanata hai

उस के शरार-ए-हुस्न ने शोला जो इक दिखा दिया ।


उस के शरार-ए-हुस्न ने शोला जो इक दिखा दिया ।
तूर को सर से पाँव तक फूँक दिया जला दिया ।

फिर के निगाह चार सू ठहरी उसी के रू-ब-रू,
उस ने तो मेरी चश्म को क़िबला-नुमा बना दिया ।

मेरा और उस का इख़्तिलात हो गया मिस्ल-ए-अब्र-ओ-बर्क़,
उस ने मुझे रुला दिया मैं ने उसे हँसा दिया ।

मैं हूँ पतंग काग़ज़ी डोर है उस के हाथ में,
चाहा इधर घटा दिया चाहा उधर बढ़ा दिया ।

तेशे की क्या मजाल थी ये जो तराशे बे-सुतूँ,
था वो तमाम दिल का ज़ोर जिस ने पहाड़ ढा दिया ।

सुनके ये मेरा अर्ज़े-हाल यार ने यूं कहा 'नज़ीर'
"चल बे, ज़ियादा अब न बक तूने तो सर फिरा दिया"

us ke sharaar-e-husn ne shola jo ik dikha diya .
toor ko sar se paanv tak phoonk diya jala diya .

phir ke nigaah chaar soo thaharee usee ke roo-ba-roo,
us ne to meree chashm ko qibala-numa bana diya .

mera aur us ka ikhtilaat ho gaya misl-e-abr-o-barq,
us ne mujhe rula diya main ne use hansa diya .

main hoon patang kaagazee dor hai us ke haath mein,
chaaha idhar ghata diya chaaha udhar badha diya .

teshe kee kya majaal thee ye jo taraashe be-sutoon,
tha vo tamaam dil ka zor jis ne pahaad dha diya .

sunake ye mera arze-haal yaar ne yoon kaha nazeer
"chal be, ziyaada ab na bak toone to sar phira diya"

आशिक़ों की भंग


दुनिया के अमीरों में याँ किसका रहा डंका ।
बरबाद हुए लश्कर, फ़ौजों का थका डंका ।
आशिक़ तो यह समझे हैं, अब दिल में बना डंका ।
जो भंग पिएँ उनका बजता है सदा डंका ।
कूंडी के नक़्क़ारे पर, ख़ुतके का लगा डंका ।।
नित भंग पी और आशिक़, दिन रात बजा डंका ।।१।।

उल्फ़त के जमर्रुद की, यह खेत की बूटी है ।
पत्तों की चमक उसके कमख़्वाब की बूटी है ।
मुँह जिसके लगी उससे फिर काहे को छूटी है ।
यह तान टिकोरे की इस बात पे टूटी है ।
कूंडी के नक़्क़ारे पर, ख़ुतके का लगा डंका ।।
नित भंग पी और आशिक़, दिन रात बजा डंका ।।२।।

हर आन खड़ाके से, इस ढब का लगा रगड़ा ।
जो सुन के खड़क इसकी हो बंद सभी दगड़ा ।
चक़्कान चढ़ा गहरा, और बाँध हरा पगड़ा ।
क्या सैर की ठहरेगी टुक छोड़ के यह झगड़ा ।
कूंडी के नक़्क़ारे पर, ख़ुतके का लगा डंका ।।
नित भंग पी और आशिक़, दिन रात बजा डंका ।।३।।

एक प्याले के पीते ही, हो जावेगा मतवाला ।
आँखों में तेरी आकर खिल जाएगा गुल लाला ।
क्या क्या नज़र आवेगी हरियाली व हरियाला ।
आ मान कहा मेरा, ऐ शोख़ नए लाला ।
कूंडी के नक़्क़ारे पर, ख़ुतके का लगा डंका ।।
नित भंग पी और आशिक़, दिन रात बजा डंका ।।४।।

हैं मस्त वही पूरे, जो कूंडी के अन्दर हैं ।
दिल उनके बड़े दरिया, जी उनके समुन्दर हैं ।
बैठे हैं सनम बुत हो, और झूमते मन्दिर हैं ।
कहते हैं यही हँस-हँस, आशिक़ जो कलन्दर हैं ।
कूंडी के नक़्क़ारे पर, ख़ुतके का लगा डंका ।।
नित भंग पी और आशिक़, दिन रात बजा डंका ।।५।।

सब छोड़ नशा प्यारे, पीवे तू अगर सब्जी ।
कर जावे वही तेरी, ख़ातिर में असर सब्जी ।
हर बाग में हर जाँ में, आ जावे नज़र सब्जी ।
तेरी भी ’नज़ीर’ अब तो सब्जी में है सर सब्जी ।
कूंडी के नक़्क़ारे पर, ख़ुतके का लगा डंका ।।
नित भंग पी और आशिक़, दिन रात बजा डंका ।।६।।

duniya ke ameeron mein yaan kisaka raha danka .
barabaad hue lashkar, faujon ka thaka danka .
aashiq to yah samajhe hain, ab dil mein bana danka .
jo bhang pien unaka bajata hai sada danka .
koondee ke naqqaare par, khutake ka laga danka ..
nit bhang pee aur aashiq, din raat baja danka ..1..

ulfat ke jamarrud kee, yah khet kee bootee hai .
patton kee chamak usake kamakhvaab kee bootee hai .
munh jisake lagee usase phir kaahe ko chhootee hai .
yah taan tikore kee is baat pe tootee hai .
koondee ke naqqaare par, khutake ka laga danka ..
nit bhang pee aur aashiq, din raat baja danka ..2..

har aan khadaake se, is dhab ka laga ragada .
jo sun ke khadak isakee ho band sabhee dagada .
chaqkaan chadha gahara, aur baandh hara pagada .
kya sair kee thaharegee tuk chhod ke yah jhagada .
koondee ke naqqaare par, khutake ka laga danka ..
nit bhang pee aur aashiq, din raat baja danka ..3..

ek pyaale ke peete hee, ho jaavega matavaala .
aankhon mein teree aakar khil jaega gul laala .
kya kya nazar aavegee hariyaalee va hariyaala .
aa maan kaha mera, ai shokh nae laala .
koondee ke naqqaare par, khutake ka laga danka ..
nit bhang pee aur aashiq, din raat baja danka ..4..

hain mast vahee poore, jo koondee ke andar hain .
dil unake bade dariya, jee unake samundar hain .
baithe hain sanam but ho, aur jhoomate mandir hain .
kahate hain yahee hans-hans, aashiq jo kalandar hain .
koondee ke naqqaare par, khutake ka laga danka ..
nit bhang pee aur aashiq, din raat baja danka ..5..

sab chhod nasha pyaare, peeve too agar sabjee .
kar jaave vahee teree, khaatir mein asar sabjee .
har baag mein har jaan mein, aa jaave nazar sabjee .
teree bhee ’nazeer’ ab to sabjee mein hai sar sabjee .
koondee ke naqqaare par, khutake ka laga danka ..
nit bhang pee aur aashiq, din raat baja danka ..6..


read more poetry at 2naina.com

दुःखी मत हो

सार्त्र!
तुम्हें आदमी के
अस्तित्व की चिंता है न?
दुःखी मत हो दार्शनिक
मैं तुम्हें सुझाता हूँ
क्षणों को
पूरे आत्मबोध के साथ
जीते हुए
आदमज़ाद की
सही तस्वीर दिखाता हूँ-
भागती ट्रामों
दौड़ती कारों
और हाँफती ज़िन्दगी के किनारे
वहाँ दूर
नगर निगम के पार्क में –
प्राणवान अँगुलियों के सहारे
बेमतलब घास चुनते
अपने मौन से
अनन्त सर्गों का
संवेदनशील महाकाव्य बुनते
यदि दो युवा प्रेमियों को
तुम कभी देख पाओगे
तो उसी दिन से
ओ चिन्तक!
महायुद्धों की
विभीषिका को भूलकर
तुम सचमुच
आदमज़ाद के
समग्र अस्तित्व की
महत्ता पहचान जाओगे।



saartr!
tumhen aadamee ke
astitv kee chinta hai na?
duhkhee mat ho daarshanik
main tumhen sujhaata hoon
kshanon ko
poore aatmabodh ke saath
jeete hue
aadamazaad kee
sahee tasveer dikhaata hoon-
bhaagatee traamon
daudatee kaaron
aur haanphatee zindagee ke kinaare
vahaan door
nagar nigam ke paark mein –
praanavaan anguliyon ke sahaare
bematalab ghaas chunate
apane maun se
anant sargon ka
sanvedanasheel mahaakaavy bunate
yadi do yuva premiyon ko
tum kabhee dekh paoge
to usee din se
o chintak!
mahaayuddhon kee
vibheeshika ko bhoolakar
tum sachamuch
aadamazaad ke
samagr astitv kee
mahatta pahachaan jaoge.

Thursday, 24 August 2017

राखी


चली आती है अब तो हर कहीं बाज़ार की राखी ।
सुनहरी, सब्ज़, रेशम, ज़र्द और गुलनार की राखी ।
बनी है गो कि नादिर ख़ूब हर सरदार की राखी ।
सलूनों में अजब रंगीं है उस दिलदार की राखी ।
न पहुँचे एक गुल को यार जिस गुलज़ार की राखी ।।1।।

अयाँ है अब तो राखी भी, चमन भी, गुल भी, शबनम भी ।
झमक जाता है मोती और झलक जाता है रेशम भी ।
तमाशा है अहा ! हा ! हा गनीमत है यह आलम भी ।
उठाना हाथ, प्यारे वाह वा टुक देख लें हम भी ।
तुम्हारी मोतियों की और ज़री के तार की राखी ।।2।।

मची है हर तरफ़ क्या क्या सलूनों की बहार अब तो ।
हर एक गुलरू फिरे है राखी बाँधे हाथ में ख़ुश हो ।
हवस जो दिल में गुज़रे है कहूँ क्या आह में तुमको ।
यही आता है जी में बनके बाम्हन आज तो यारो ।
मैं अपने हाथ से प्यारे के बाँधूँ प्यार की राखी ।।3।।

हुई है ज़ेबो ज़ीनत और ख़ूबाँ को तो राखी से ।
व लेकिन तुमसे अब जान और कुछ राखी के गुल फूले ।
दिवानी बुलबुलें हों देख गुल चुनने लगीं तिनके ।
तुम्हारे हाथ ने मेंहदी ने अंगुश्तों ने नाख़ुन ने ।
गुलिस्ताँ की, चमन की, बाग़ की गुलज़ार की राखी ।।4।।

अदा से हाथ उठने में गुले राखी जो हिलते हैं ।
कलेजे देखने वालों के क्या क्या आह छिलते हैं ।
कहाँ नाज़ुक यह पहुँचे और कहाँ यह रंग मिलते हैं ।
चमन में शाख़ पर कब इस तरह के फूल खिलते हैं ।
जो कुछ ख़ूबी में है उस शोख़ गुल रुख़सार की राखी ।।5।।

फिरें हैं राखियाँ बाँधे जो हर दम हुस्न के मारे ।
तो उनकी राखियों को देख ऐ ! जाँ ! चाव के मारे ।
पहन ज़ुन्नार और क़श्क़ः लगा माथे ऊपर बारे ।
’नज़ीर’ आया है बाम्हन बनके राखी बाँधने प्यारे ।
बँधा लो उससे तुम हँसकर अब इस त्यौहार की राखी ।।6।।

chalee aatee hai ab to har kaheen baazaar kee raakhee .
sunaharee, sabz, resham, zard aur gulanaar kee raakhee .
banee hai go ki naadir khoob har saradaar kee raakhee .
saloonon mein ajab rangeen hai us diladaar kee raakhee .
na pahunche ek gul ko yaar jis gulazaar kee raakhee ..1..

ayaan hai ab to raakhee bhee, chaman bhee, gul bhee, shabanam bhee .
jhamak jaata hai motee aur jhalak jaata hai resham bhee .
tamaasha hai aha ! ha ! ha ganeemat hai yah aalam bhee .
uthaana haath, pyaare vaah va tuk dekh len ham bhee .
tumhaaree motiyon kee aur zaree ke taar kee raakhee ..2..

machee hai har taraf kya kya saloonon kee bahaar ab to .
har ek gularoo phire hai raakhee baandhe haath mein khush ho .
havas jo dil mein guzare hai kahoon kya aah mein tumako .
yahee aata hai jee mein banake baamhan aaj to yaaro .
main apane haath se pyaare ke baandhoon pyaar kee raakhee ..3..

huee hai zebo zeenat aur khoobaan ko to raakhee se .
va lekin tumase ab jaan aur kuchh raakhee ke gul phoole .
divaanee bulabulen hon dekh gul chunane lageen tinake .
tumhaare haath ne menhadee ne angushton ne naakhun ne .
gulistaan kee, chaman kee, baag kee gulazaar kee raakhee ..4..

ada se haath uthane mein gule raakhee jo hilate hain .
kaleje dekhane vaalon ke kya kya aah chhilate hain .
kahaan naazuk yah pahunche aur kahaan yah rang milate hain .
chaman mein shaakh par kab is tarah ke phool khilate hain .
jo kuchh khoobee mein hai us shokh gul rukhasaar kee raakhee ..5..

phiren hain raakhiyaan baandhe jo har dam husn ke maare .
to unakee raakhiyon ko dekh ai ! jaan ! chaav ke maare .
pahan zunnaar aur qashqah laga maathe oopar baare .
’nazeer’ aaya hai baamhan banake raakhee baandhane pyaare .
bandha lo usase tum hansakar ab is tyauhaar kee raakhee ..6..

आयो फ़कीरो मेले चलिए


आयो फ़कीरो मेले चलिए, आरफ़ दा सुन वाजा रे ।
अनहद सबद सुनो बहु रंगी, तजीए भेख प्याजा रे ।
अनहद बाजा सरब मिलापी, निरवैरी सिरनाजा रे ।
मेले बाझों मेला औतर, रुढ़ ग्या मूल व्याजा रे ।
कठिन फ़कीरी रसता आशक, कायम करो मन बाजा रे ।
बन्दा रब्ब ब्रिहों इक मगर सुख, बुल्हा पड़ जहान बराजा रे ।


aayo fakeero mele chalie, aaraf da sun vaaja re .
anahad sabad suno bahu rangee, tajeee bhekh pyaaja re .
anahad baaja sarab milaapee, niravairee siranaaja re .
mele baajhon mela autar, rudh gya mool vyaaja re .
kathin fakeeree rasata aashak, kaayam karo man baaja re .
banda rabb brihon ik magar sukh, bulha pad jahaan baraaja re .

इश्क़ का मारा न सहरा ही में कुछ चौपट पड़ा


इश्क़ का मारा न सहरा ही में कुछ चौपट पड़ा
है जहाँ उस का अमल वो शहर भी है पट पड़ा

आशिक़ों के क़त्ल को क्या तेज़ है अबरू की तेग़
टुक उधर जुम्बिश हुई और सर इधर से कट पड़ा

अश्क की नोक-ए-मिज़ा पर शीशा-बाज़ी देखिए
क्या कलाएँ खेलता है बाँस पर ये नट पड़ा

शायद उस ग़ुंचा-दहन को हँसते देखा बाग़ में
अब तलक ग़ुंचा बलाएँ लेता है चट चट पड़ा

देख कर उस के सरापा को ये कहती है परी
सर से ले कर पाँव तक याँ हुस्न आ कर फट पड़ा

क्या तमाशा है कि वो चंचल हटीला चुलबुला
और से तो हिट गया पर मेरे दिल पर हट पड़ा

क्या हुआ गो मर गया फ़रहाद लेकिन दोस्तो
बे-सुतूँ पर हो रहा है आज तक खट खट पड़ा

हिज्र की शब में जो खींची आन कर नाले ने तेग़
की पटे-बाज़ी वले तासीर से हट हट पड़ा

दिल बढ़ा कर उस में खींचा आह ने फिर नीमचा
ऐ 'नज़ीर' आख़िर वो उस का नीमचा भी पट पड़ा

ishq ka maara na sahara hee mein kuchh chaupat pada
hai jahaan us ka amal vo shahar bhee hai pat pada

aashiqon ke qatl ko kya tez hai abaroo kee teg
tuk udhar jumbish huee aur sar idhar se kat pada

ashk kee nok-e-miza par sheesha-baazee dekhie
kya kalaen khelata hai baans par ye nat pada

shaayad us guncha-dahan ko hansate dekha baag mein
ab talak guncha balaen leta hai chat chat pada

dekh kar us ke saraapa ko ye kahatee hai paree
sar se le kar paanv tak yaan husn aa kar phat pada

kya tamaasha hai ki vo chanchal hateela chulabula
aur se to hit gaya par mere dil par hat pada

kya hua go mar gaya farahaad lekin dosto
be-sutoon par ho raha hai aaj tak khat khat pada

hijr kee shab mein jo kheenchee aan kar naale ne teg
kee pate-baazee vale taaseer se hat hat pada

dil badha kar us mein kheencha aah ne phir neemacha
ai nazeer aakhir vo us ka neemacha bhee pat pada