Sunday, 28 May 2017

जीते-जी कूचा-ऐ-दिलदार से जाया न गया by meer taqi meer




जीते-जी कूचा-ऐ-दिलदार से जाया न गया
उस की दीवार का सर से मेरे साया न गया

दिल के तईं आतिश-ऐ-हिज्राँ से बचाया न गया
घर जला सामने पर हम से बुझाया न गया

क्या तुनक हौसला थे दीदा-ओ-दिल अपने आह
इक दम राज़ मोहब्बत का छुपाया न गया

दिल जो दीदार का क़ायेल की बहोत भूका था
इस सितम-कुश्ता से यक ज़ख्म भी खाया न गया

शहर-ऐ-दिल आह अजब जाए थी पर उसके गए
ऐसा उजड़ा कि किसी तरह बसाया ना गया


Jiite-jii kuuchaa-e-dildaar se jaayaa na gayaa
us kii diivaar kaa sar se mere saayaa na gayaa
Dil ke taaii.n aatish-e-hijraan se bachaayaa na gayaa
ghar jalaa saamane par ham se bujhaayaa na gayaa
Kyaa tunak hausalaa the diidaa-o-dil apane aah
ek dam raaz mohabbat kaa chhupaayaa na gayaa
Dil jo diidaar kaa qaayel kii bahot bhuukaa thaa
is sitam-kushtaa se yak zakhm bhii khaayaa na gayaa
Shahar-e-dil aah ajab jaaye thii par uske gaye
aisaa uja.Daa ki kisii tarah basaayaa na gayaa


-meer taqi meer


for more poetry refer to our blog 2naina.

1 comment: