Wednesday, 20 September 2017

उदास रात है कोई तो ख़्वाब दे जाओ

उदास रात है कोई तो ख़्वाब दे जाओ 
मेरे गिलास में थोड़ी शराब दे जाओ 

बहुत से और भी हैं ख़ुदा की बस्ती में
फ़क़ीर कब से खड़ा है जवाब दे जाओ 

मैं ज़र्द पत्तों पे शबनम सजा के लाया हूँ 
किसी ने मुझसे कहा था हिसाब दे जाओ 

मेरी नज़र में रहे डूबने का मंज़र भी 
गुरूब होता हुआ आफ़ताब दे जाओ

फिर इसके बाद नज़रे नज़र को तरसेंगे 
वो जा रहा है खिजां के गुलाब दे जाओ 

हज़ार सफ़ों का दीवान कौन पढ़ता है
'बशीर बद्र' कोई इन्तखाब दे जाओ

udaas raat hai koee to khvaab de jao 
mere gilaas mein thodee sharaab de jao 

bahut se aur bhee hain khuda kee bastee mein
faqeer kab se khada hai javaab de jao 

main zard patton pe shabanam saja ke laaya hoon 
kisee ne mujhase kaha tha hisaab de jao 

meree nazar mein rahe doobane ka manzar bhee 
guroob hota hua aafataab de jao

phir isake baad nazare nazar ko tarasenge 
vo ja raha hai khijaan ke gulaab de jao 

hazaar safon ka deevaan kaun padhata hai
basheer badr koee intakhaab de jao

No comments:

Post a Comment