Thursday, 14 September 2017

अच्छी सूरत पे ग़ज़ब टूट के आना दिल का

अच्छी सूरत पे ग़ज़ब टूट के आना दिल का
याद आता है हमें हाय! ज़माना दिल का 

तुम भी मुँह चूम लो बेसाख़ता प्यार आ जाए 
मैं सुनाऊँ जो कभी दिल से फ़साना दिल का

पूरी मेंहदी भी लगानी नहीं आती अब तक
क्योंकर आया तुझे ग़ैरों से लगाना दिल का

इन हसीनों का लड़कपन ही रहे या अल्लाह 
होश आता है तो आता है सताना दिल का

मेरी आग़ोश से क्या ही वो तड़प कर निकले 
उनका जाना था इलाही के ये जाना दिल का

दे ख़ुदा और जगह सीना-ओ-पहलू के सिवा
के बुरे वक़्त में होजाए ठिकाना दिल का

उंगलियाँ तार-ए-गरीबाँ में उलझ जाती हैं 
सख़्त दुश्वार है हाथों से दबाना दिल का

बेदिली का जो कहा हाल तो फ़रमाते हैं
कर लिया तूने कहीं और ठिकाना दिल का

छोड़ कर उसको तेरी बज़्म से क्योंकर जाऊँ
एक जनाज़े का उठाना है उठाना दिल का

निगहा-ए-यार ने की ख़ाना ख़राबी ऎसी 
न ठिकाना है जिगर का न ठिकाना दिल का

बाद मुद्दत के ये ऎ दाग़ समझ में आया
वही दाना है कहा जिसने न माना दिल का

achchhee soorat pe gazab toot ke aana dil ka
yaad aata hai hamen haay! zamaana dil ka 

tum bhee munh choom lo besaakhata pyaar aa jae 
main sunaoon jo kabhee dil se fasaana dil ka

pooree menhadee bhee lagaanee nahin aatee ab tak
kyonkar aaya tujhe gairon se lagaana dil ka

in haseenon ka ladakapan hee rahe ya allaah 
hosh aata hai to aata hai sataana dil ka

meree aagosh se kya hee vo tadap kar nikale 
unaka jaana tha ilaahee ke ye jaana dil ka

de khuda aur jagah seena-o-pahaloo ke siva
ke bure vaqt mein hojae thikaana dil ka

ungaliyaan taar-e-gareebaan mein ulajh jaatee hain 
sakht dushvaar hai haathon se dabaana dil ka

bedilee ka jo kaha haal to faramaate hain
kar liya toone kaheen aur thikaana dil ka

chhod kar usako teree bazm se kyonkar jaoon
ek janaaze ka uthaana hai uthaana dil ka

nigaha-e-yaar ne kee khaana kharaabee aisee 
na thikaana hai jigar ka na thikaana dil ka

baad muddat ke ye ai daag samajh mein aaya
vahee daana hai kaha jisane na maana dil ka

No comments:

Post a Comment