Sunday, 10 September 2017

ग़ज़ल को माँ की तरह बा-वक़ार करता हूँ

ग़ज़ल को माँ की तरह बा-वक़ार करता हूँ 
मैं मामता के कटोरों में दूध भरता हूँ 

ये देख हिज्र तेरा कितना ख़ूबसूरत है
अजीब मर्द हूँ सोलह श्रृंगार करता हूँ 

बदन समेट के ले जाए जैसे शाम की धूप 
तुम्हारे शहर से मैं इस तरह गुज़रता हूँ 

तमाम दिन का सफ़र करके रोज़ शाम के बाद 
पहाड़ियों से घिरी क़ब्र में उतरता हूँ

मुझे सकून घने जंगलों में मिलता है
मैं रास्तों से नहीं मंज़िलों से डरता हूँ


gazal ko maa kee tarah ba-vaqaar karata hoon 
main maamata ke katoron mein doodh bharata hoon 

ye dekh hijr tera kitana khoobasoorat hai
ajeeb mard hoon solah shrrngaar karata hoon 

badan samet ke le jae jaise shaam kee dhoop 
tumhaare shahar se main is tarah guzarata hoon 

tamaam din ka safar karake roz shaam ke baad 
pahaadiyon se ghiree qabr mein utarata hoon

mujhe sakoon ghane jangalon mein milata hai
main raaston se nahin manzilon se darata hoon

No comments:

Post a Comment