Friday, 15 September 2017

दर्द बन के दिल में आना , कोई तुम से सीख जाए

दर्द बन के दिल में आना , कोई तुम से सीख जाए
जान-ए-आशिक़ हो के जाना , कोई तुम से सीख जाए

हमसुख़न पर रूठ जाना , कोई तुम से सीख जाए
रूठ कर फिर मुस्कुराना, कोई तुम से सीख जाए

वस्ल की शब चश्म-ए-ख़्वाब-आलूदा के मलते उठे
सोते फ़ित्ने को जगाना,कोई तुम से सीख जाए

कोई सीखे ख़ाकसारी की रविश तो हम सिखाएँ
ख़ाक में दिल को मिलाना,कोई तुम से सीख जाए

आते-जाते यूँ तो देखे हैं हज़ारों ख़ुश-ख़राम
दिल में आकर दिल से जाना,कोई तुम से सीख जाए

इक निगाह-ए-लुत्फ़ पर लाखों दुआएँ मिल गयीं
उम्र को अपनी बढ़ाना,कोई तुम से सीख जाए

जान से मारा उसे, तन्हा जहाँ पाया जिसे
बेकसी में काम आना ,कोई तुम से सीख जाए

क्या सिखाएगा ज़माने को फ़लत तर्ज़-ए-ज़फ़ा
अब तुम्हारा है ज़माना,कोई तुम से सीख जाए

महव-ए-बेख़ुद हो, नहीं कुछ दुनियादारी की ख़बर 
दाग़ ऐसा दिल लगाना,कोई तुम से सीख जाए

dard ban ke dil mein aana , koee tum se seekh jae
jaan-e-aashiq ho ke jaana , koee tum se seekh jae

hamasukhan par rooth jaana , koee tum se seekh jae
rooth kar phir muskuraana, koee tum se seekh jae

vasl kee shab chashm-e-khvaab-aalooda ke malate uthe
sote fitne ko jagaana,koee tum se seekh jae

koee seekhe khaakasaaree kee ravish to ham sikhaen
khaak mein dil ko milaana,koee tum se seekh jae

aate-jaate yoon to dekhe hain hazaaron khush-kharaam
dil mein aakar dil se jaana,koee tum se seekh jae

ik nigaah-e-lutf par laakhon duaen mil gayeen
umr ko apanee badhaana,koee tum se seekh jae

jaan se maara use, tanha jahaan paaya jise
bekasee mein kaam aana ,koee tum se seekh jae

kya sikhaega zamaane ko falat tarz-e-zafa
ab tumhaara hai zamaana,koee tum se seekh jae

mahav-e-bekhud ho, nahin kuchh duniyaadaaree kee khabar 
daag aisa dil lagaana,koee tum se seekh jae

No comments:

Post a Comment