Friday, 8 September 2017

उज़्र आने में भी है और बुलाते भी नहीं

उज़्र आने में भी है और बुलाते भी नहीं
बाइस-ए-तर्क-ए मुलाक़ात बताते भी नहीं

मुंतज़िर हैं दमे रुख़सत के ये मर जाए तो जाएँ
फिर ये एहसान के हम छोड़ के जाते भी नहीं

सर उठाओ तो सही, आँख मिलाओ तो सही
नश्शाए मैं भी नहीं, नींद के माते भी नहीं

क्या कहा फिर तो कहो; हम नहीं सुनते तेरी
नहीं सुनते तो हम ऐसों को सुनाते भी नहीं

ख़ूब परदा है कि चिलमन से लगे बैठे हैं
साफ़ छुपते भी नहीं सामने आते भी नहीं

मुझसे लाग़िर तेरी आँखों में खटकते तो रहे
तुझसे नाज़ुक मेरी आँखों में समाते भी नहीं

देखते ही मुझे महफ़िल में ये इरशाद हुआ
कौन बैठा है इसे लोग उठाते भी नहीं

हो चुका तर्के तअल्लुक़ तो जफ़ाएँ क्यूँ हों
जिनको मतलब नहीं रहता वो सताते भी नहीं

ज़ीस्त से तंग हो ऐ दाग़ तो जीते क्यूँ हो
जान प्यारी भी नहीं जान से जाते भी नहीं


uzr aane mein bhee hai aur bulaate bhee nahin 
bais-e-tark-e mulaaqaat bataate bhee nahin

muntazir hain dame rukhasat ke ye mar jae to jaen 
phir ye ehasaan ke ham chhod ke jaate bhee nahin

sar uthao to sahee, aankh milao to sahee 
nashshae main bhee nahin, neend ke maate bhee nahin

kya kaha phir to kaho; ham nahin sunate teree 
nahin sunate to ham aison ko sunaate bhee nahin

khoob parada hai ki chilaman se lage baithe hain 
saaf chhupate bhee nahin saamane aate bhee nahin

mujhase laagir teree aankhon mein khatakate to rahe 
tujhase naazuk meree aankhon mein samaate bhee nahin 

dekhate hee mujhe mahafil mein ye irashaad hua 
kaun baitha hai ise log uthaate bhee nahin

ho chuka tarke taalluq to jafaen kyoon hon
jinako matalab nahin rahata vo sataate bhee nahin

zeest se tang ho ai daag to jeete kyoon ho
jaan pyaaree bhee nahin jaan se jaate bhee nahin

No comments:

Post a Comment