Saturday, 9 September 2017

हमारा दिल सवेरे का सुनहरा जाम हो जाए

हमारा दिल सवेरे का सुनहरा जाम हो जाए 
चराग़ों की तरह आँखें जलें जब शाम हो जाए 

मैं ख़ुद भी एहतियातन उस गली से कम गुज़रता हूँ 
कोई मासूम क्यों मेरे लिए बदनाम हो जाए 

अजब हालात थे यूँ दिल का सौदा हो गया आख़िर 
मोहब्बत की हवेली जिस तरह नीलाम हो जाए 

समन्दर के सफ़र में इस तरह आवाज़ दो हमको 
हवाएँ तेज़ हों और कश्तियों में शाम हो जाए

मुझे मालूम है उसका ठिकाना फिर कहाँ होगा 
परिंदा आसमाँ छूने में जब नाकाम हो जाए 

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो 
न जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाए

hamaara dil savere ka sunahara jaam ho jae 
charaagon kee tarah aankhen jalen jab shaam ho jae 

main khud bhee ehatiyaatan us galee se kam guzarata hoon 
koee maasoom kyon mere lie badanaam ho jae 

ajab haalaat the yoon dil ka sauda ho gaya aakhir 
mohabbat kee havelee jis tarah neelaam ho jae 

samandar ke safar mein is tarah aavaaz do hamako 
havaen tez hon aur kashtiyon mein shaam ho jae

mujhe maaloom hai usaka thikaana phir kahaan hoga 
parinda aasamaan chhoone mein jab naakaam ho jae 

ujaale apanee yaadon ke hamaare saath rahane do 
na jaane kis galee mein zindagee kee shaam ho jae

No comments:

Post a Comment