Sunday, 10 September 2017

क़स्र-ए-रंगीं से गुज़र बाग़-ओ-गुलिस्ताँ से निकल


क़स्र-ए-रंगीं से गुज़र बाग़-ओ-गुलिस्ताँ से निकल
है वफ़ा-पेशा तू मत कूचा-ए-जानाँ से निकल

निकहत-ए-ज़ुल्फ़ ये किस की है कि जिस के आगे
हुई ख़जलत-ज़दा बू सुम्बुल-ओ-रैहाँ से निकल

गो बहार अब है वले रोज़-ए-ख़िज़ाँ ऐ बुलबुल
यक-क़लम नर्गिस ओ गुल जावेंगे बुसताँ से निकल

इम्तिहाँ करने को यूँ दिल से कहा हम ने रात
ऐ दिल-ए-ग़म-ज़दा इस काकुल-ए-पेचाँ से निकल

खा के सौ पेच कहा मैं तो निकलने का नहीं
मगर ऐ दुश्मन-ए-जाँ चल तू मिरे हाँ से निकल

हो परेशानी से जिस की मुझे सौ जमइय्यत
किस तरह जाऊँ मैं उस ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ से निकल

लाख ज़िंदान-ए-पुर-आफ़ात में होता है वो क़ैद
जो कोई जाता है इस तौर के ज़िंदाँ से निकल

मुझ से मुमकिन नहीं महबूब की क़त्अ-ए-उल्फ़त
गरचे मैं जाऊँगा इस आलम-ए-इम्काँ से निकल

चाह में मुझ को ये मुर्शिद का है इरशाद ‘नज़ीर’
आबरू चाहे तो मत चाह-ए-ज़नख़दाँ से निकल

qasr-e-rangeen se guzar baag-o-gulistaan se nikal
hai vafa-pesha too mat koocha-e-jaanaan se nikal 

nikahat-e-zulf ye kis kee hai ki jis ke aage
huee khajalat-zada boo sumbul-o-raihaan se nikal

go bahaar ab hai vale roz-e-khizaan ai bulabul
yak-qalam nargis o gul jaavenge busataan se nikal

imtihaan karane ko yoon dil se kaha ham ne raat
ai dil-e-gam-zada is kaakul-e-pechaan se nikal

kha ke sau pech kaha main to nikalane ka nahin
magar ai dushman-e-jaan chal too mire haan se nikal

ho pareshaanee se jis kee mujhe sau jamiyyat
kis tarah jaoon main us zulf-e-pareshaan se nikal

laakh zindaan-e-pur-aafaat mein hota hai vo qaid
jo koee jaata hai is taur ke zindaan se nikal

mujh se mumakin nahin mahaboob kee qat-e-ulfat
garache main jaoonga is aalam-e-imkaan se nikal

chaah mein mujh ko ye murshid ka hai irashaad ‘nazeer’
aabaroo chaahe to mat chaah-e-zanakhadaan se nikal

No comments:

Post a Comment