Friday, 11 August 2017

ऐ री सखी मोरे पिया घर आए


ऐ री सखी मोरे पिया घर आए
भाग लगे इस आँगन को
बल-बल जाऊँ मैं अपने पिया के,
चरन लगायो निर्धन को।
मैं तो खड़ी थी आस लगाए,
मेंहदी कजरा माँग सजाए।
देख सूरतिया अपने पिया की,
हार गई मैं तन मन को।
जिसका पिया संग बीते सावन,
उस दुल्हन की रैन सुहागन।
जिस सावन में पिया घर नाहि,
आग लगे उस सावन को।
अपने पिया को मैं किस विध पाऊँ,
लाज की मारी मैं तो डूबी डूबी जाऊँ
तुम ही जतन करो ऐ री सखी री,
मै मन भाऊँ साजन को।


ai ree sakhee more piya ghar aae
bhaag lage is aangan ko
bal-bal jaoon main apane piya ke,
charan lagaayo nirdhan ko.
main to khadee thee aas lagae,
menhadee kajara maang sajae.
dekh sooratiya apane piya kee,
haar gaee main tan man ko.
jisaka piya sang beete saavan,
us dulhan kee rain suhaagan.
jis saavan mein piya ghar naahi,
aag lage us saavan ko.
apane piya ko main kis vidh paoon,
laaj kee maaree main to doobee doobee jaoon
tum hee jatan karo ai ree sakhee ree,
mai man bhaoon saajan ko.

No comments:

Post a Comment