Friday, 16 June 2017

होली की बहार


हिन्द के गुलशन में जब आती है होली की बहार।
जांफिशानी चाही कर जाती है होली की बहार।।

एक तरफ से रंग पड़ता, इक तरफ उड़ता गुलाल।
जिन्दगी की लज्जतें लाती हैं, होली की बहार।।

जाफरानी सजके चीरा आ मेरे शाकी शिताब।
मुझको तुम बिन यार तरसाती है होली की बहार।।

तू बगल में हो जो प्यारे, रंग में भीगा हुआ।
तब तो मुझको यार खुश आती है होली की बहार।।

और हो जो दूर या कुछ खफा हो हमसे मियां।
तो काफिर हो जिसे भाती है होली की बहार।।

नौ बहारों से तू होली खेलले इस दम 'नजीर'।
फिर बरस दिन के उपर है होली की बहार।।

hind ke gulashan mein jab aatee hai holee kee bahaar.
jaamphishaanee chaahee kar jaatee hai holee kee bahaar..

ek taraph se rang padata, ik taraph udata gulaal.
jindagee kee lajjaten laatee hain, holee kee bahaar..

jaapharaanee sajake cheera aa mere shaakee shitaab.
mujhako tum bin yaar tarasaatee hai holee kee bahaar..

too bagal mein ho jo pyaare, rang mein bheega hua.
tab to mujhako yaar khush aatee hai holee kee bahaar..

aur ho jo door ya kuchh khapha ho hamase miyaan.
to kaaphir ho jise bhaatee hai holee kee bahaar..

nau bahaaron se too holee khelale is dam najeer.
phir baras din ke upar hai holee kee bahaar..

No comments:

Post a Comment