Monday, 26 June 2017

तुम्हारे ख़त में नया इक सलाम किस का था

तुम्हारे ख़त में नया इक सलाम किस का था
न था रक़ीब तो आख़िर वो नाम किस का था

वो क़त्ल कर के हर किसी से पूछते हैं
ये काम किस ने किया है ये काम किस का था

वफ़ा करेंगे ,निबाहेंगे, बात मानेंगे
तुम्हें भी याद है कुछ ये कलाम किस का था

रहा न दिल में वो बेदर्द और दर्द रहा
मुक़ीम[ कौन हुआ है मुक़ाम किस का था

न पूछ-ताछ थी किसी की वहाँ न आवभगत
तुम्हारी बज़्म में कल एहतमाम किस का था

हमारे ख़त के तो पुर्जे किए पढ़ा भी नहीं
सुना जो तुम ने बा-दिल वो पयाम किस का था

इन्हीं सिफ़ात से होता है आदमी मशहूर
जो लुत्फ़ आप ही करते तो नाम किस का था

तमाम बज़्म जिसे सुन के रह गई मुश्ताक़
कहो, वो तज़्किरा-ए-नातमाम किसका था

गुज़र गया वो ज़माना कहें तो किस से कहें
ख़याल मेरे दिल को सुबह-ओ-शाम किस का था

अगर्चे देखने वाले तेरे हज़ारों थे
तबाह हाल बहुत ज़ेरे-बाम किसका था

हर इक से कहते हैं क्या 'दाग़' बेवफ़ा निकला
ये पूछे इन से कोई वो ग़ुलाम किस का था

tumhaare khat mein naya ik salaam kis ka tha
na tha raqeeb to aakhir vo naam kis ka tha

vo qatl kar ke har kisee se poochhate hain
ye kaam kis ne kiya hai ye kaam kis ka tha

vafa karenge ,nibaahenge, baat maanenge
tumhen bhee yaad hai kuchh ye kalaam kis ka tha

raha na dil mein vo bedard aur dard raha
muqeem[ kaun hua hai muqaam kis ka tha

na poochh-taachh thee kisee kee vahaan na aavabhagat
tumhaaree bazm mein kal ehatamaam kis ka tha

hamaare khat ke to purje kie padha bhee nahin
suna jo tum ne ba-dil vo payaam kis ka tha

inheen sifaat se hota hai aadamee mashahoor
jo lutf aap hee karate to naam kis ka tha

tamaam bazm jise sun ke rah gaee mushtaaq
kaho, vo tazkira-e-naatamaam kisaka tha

guzar gaya vo zamaana kahen to kis se kahen
khayaal mere dil ko subah-o-shaam kis ka tha

agarche dekhane vaale tere hazaaron the
tabaah haal bahut zere-baam kisaka tha

har ik se kahate hain kya daag bevafa nikala
ye poochhe in se koee vo gulaam kis ka tha

No comments:

Post a Comment