Friday, 9 June 2017

बेसब्रे ही अच्छे रहे

यु वफ़ा का तमाशा बना दिया किसी ने
इससे तो तो बेवफा ही  अच्छे थे  

निकली  जो खुद को बेदाग़ करने 
दुनिया भर  के दाग मुझपर लगा दिए 
इससे तो  दाग़दार ही  अच्छे थे 

मैंने जब  गुनाह कबूल किया 
तो सूली पे चढ़ा दिया गया 
इससे बेहतर  मुकर जाते हम तो अच्छे थे 

बेशर्मी भरे लफ्जो से दी उसने हर बार 
मुझे शर्म की नसीहत 
इससे तो हम हम  बेशर्म ही अच्छे थे 

समझ नहीं आता के सबर करने वालो को 
सजा मिलती है सबर की क्यों 
हमसे बेहतर तो बेसब्रे ही अच्छे रहे 
                           

yu vafa ka tamaasha bana diya kisee ne 
isase to to bevapha hee achchhe the 

nikalee jo khud ko bedaag karane 
duniya bhar ke daag mujhapar laga die 
isase to daagadaar hee achchhe the 

mainne jab gunaah kabool kiya 
to soolee pe chadha diya gaya 
isase behatar mukar jaate ham to achchhe the 

besharmee bhare laphjo se dee usane har baar 
mujhe sharm kee naseehat 
isase to ham ham besharm hee achchhe the 

samajh nahin aata ke sabar karane vaalo ko 
saja milatee hai sabar kee kyon 
hamase behatar to besabre hee achchhe rahe

No comments:

Post a Comment