Wednesday, 14 June 2017

मेरे दिल की राख कुरेद मत इसे मुस्करा के हवा न दे

मेरे दिल की राख कुरेद मत इसे मुस्करा के हवा न दे 
ये चराग़ फिर भी चराग़ है कहीं तेरा हाथ जला न दे 

मैं उदासियाँ न सजा सकूँ कभी ज़िस्म ए जाँ के मज़ार पर 
न दीये जलें मिरी आँख में मुझे इतनी सख्त सज़ा न दे 

नए दौर के नए ख़्वाब हैं नए मौसमों के गुलाब हैं 
ये मुहब्बतों के चराग़ हैं इन्हें नफ़रतों की हवा न दे

ज़रा देख चाँद की पत्तियों ने बिखर बिखर के तमाम शब
तिरा नाम लिखा है रेत पर कोई लहर आ के मिटा न दे 

यहाँ लोग रहते हैं रात दिन किसी मस्लहत की नक़ाब में 
ये तेरी निगाह की सादगी कहीं दिन के राज़ बता न दे 

मेरे साथ चलने के शौक़ में बड़ी धूप सर पर उठाएगा 
तिरा नाक नक्शा है मोम का कहीं ग़म की आग घुला न दे

mere dil kee raakh kured mat ise muskara ke hava na de 
ye charaag phir bhee charaag hai kaheen tera haath jala na de 

main udaasiyaan na saja sakoon kabhee zism e jaan ke mazaar par 
na deeye jalen miree aankh mein mujhe itanee sakht saza na de 

nae daur ke nae khvaab hain nae mausamon ke gulaab hain 
ye muhabbaton ke charaag hain inhen nafaraton kee hava na de

zara dekh chaand kee pattiyon ne bikhar bikhar ke tamaam shab
tira naam likha hai ret par koee lahar aa ke mita na de 

yahaan log rahate hain raat din kisee maslahat kee naqaab mein 
ye teree nigaah kee saadagee kaheen din ke raaz bata na de 

mere saath chalane ke shauq mein badee dhoop sar par uthaega 
tira naak naksha hai mom ka kaheen gam kee aag ghula na de

No comments:

Post a Comment