Monday, 12 June 2017

कोई चिराग़ नहीं है मगर उजाला है

कोई चिराग़ नहीं है मगर उजाला है 
ग़ज़ल की शाख़ पे इक फूल खिलने वाला है 

ग़ज़ब की धूप है इक बे-लिबास पत्थर पर 
पहाड़ पर तेरी बरसात का दुशाला है 

अजीब लहजा है दुश्मन की मुस्कराहट का 
कभी गिराया है मुझको कभी सँभाला है 

निकल के पास की मस्जिद से एक बच्चे ने 
फ़साद में जली मूरत पे हार डाला है 

तमाम वादी में, सहरा में आग रोशन है 
मुझे ख़िज़ाँ के इन्हीं मौसमों ने पाला है

koee chiraag nahin hai magar ujaala hai 
gazal kee shaakh pe ik phool khilane vaala hai 

gazab kee dhoop hai ik be-libaas patthar par 
pahaad par teree barasaat ka dushaala hai 

ajeeb lahaja hai dushman kee muskaraahat ka 
kabhee giraaya hai mujhako kabhee sanbhaala hai 

nikal ke paas kee masjid se ek bachche ne 
fasaad mein jalee moorat pe haar daala hai 

tamaam vaadee mein, sahara mein aag roshan hai 
mujhe khizaan ke inheen mausamon ne paala hai

No comments:

Post a Comment